वरुण गांधी ने किसानों के मुद्दे पर एमएसपी की मांग की, साथ ही लखीमपुर हिंसा की निष्पक्ष जांच

Lucknow News : वरुण गांधी ने किसानों के मुद्दे पर एमएसपी की मांग की, साथ ही लखीमपुर हिंसा की निष्पक्ष जांच

वरुण गांधी ने किसानों के मुद्दे पर एमएसपी की मांग की, साथ ही लखीमपुर हिंसा की निष्पक्ष जांच

Tricity Today | वरुण गांधी ने किसानों के मुद्दे पर एमएसपी की मांग की

वरुण गांधी ने किसानों के मुद्दे पर एमएसपी की मांग की, साथ ही लखीमपुर हिंसा की निष्पक्ष जांच Lucknow News : भारतीय जनता पार्टी के पीलीभीत से सांसद वरुण गांधी ने प्रधानमंत्री के द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा का स्वागत किया। शनिवार को पीएम मोदी को लिखे एक पत्र में किसानों से जुड़े एमएसपी के मुद्दे पर वैधानिक गारंटी दिए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि इस पर फैसला हो जाना चाहिए जिससे  किसान अपने घरों को वापस लौट सकें। न्यूनतम समर्थन मूल्य की मांग को लेकर पिछले एक साल से किसानों का आंदोलन चल रहा है। साथ ही उन्होंने सरकार से किसान आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले 700 से ज्यादा किसानों के लिए एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा दिए जाने की अपील की है। उन्होंने लखीमपुर खीरी की घटना की निष्पक्ष जांच के लिए केंद्रीय मंत्री पर भी सख्त कार्रवाई की मांग की है।

सांसद वरुण गांधी ने शनिवार को पत्र के जरिए कृषि कानून वापस लेने पर प्रधानमंत्री मोदी का धन्यवाद किया है। वरुण गांधी ने कहा कि देश के किसानों ने भीषण वर्षा तूफान और विपरीत मौसम का सामना करते हुए आंदोलन को शांतिपूर्ण तरीके से जारी रखा। इसके लिए किसानों को बधाई दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि इन कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला सही समय पर कर लिया गया होता। तो उन 700 किसानों की जान बचाई जा सकती थी जिन्होंने इस आंदोलन के दौरान अपने प्राण गवाएं हैं। साथ ही उन्होंने सरकार से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून बनाने की बात कही है। एमएसपी को लेकर उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि इस मुद्दे के पूरे नहीं होने तक आंदोलन खत्म नहीं होगा। इसलिए एमएसपी पर कानून बनाए जाने पर फैसला किया जाना चाहिए।

वरुण गांधी ने लिखा कि हमारे देश में 85% से ज्यादा छोटे, लघु और सीमांत किसान है। हमें इन किसानों के सशक्तिकरण के लिए इनको फसलों का लाभकारी मूल्य दिलवाना सुनिश्चित करना होगा। एमएसपी भी कृषि लागत मूल्य आयोग के C2+50 प्रतिशत फार्मूले के आधार पर होनी चाहिए। इस विषय में मेरा आपसे अनुरोध है कि सरकार को राष्ट्रहित में इस मांग को भी तत्काल मान लेना चाहिए। इससे हमारे किसान भाइयों को एक बहुत बड़ा आर्थिक सुरक्षा चक्र मिल जाएगा और उनकी स्थिति में व्यापक सुधार होगा। किसानों की उपरोक्त अन्य मांगों को मान लेने भी मांग की। इस आंदोलन के दौरान किसान भाइयों को प्रताड़ित करने के लिए जितनी भी फर्जी एफआइआर दर्ज की गई है उन्हें भी तत्काल निरस्त किया जाना चाहिए।

उन्होंने 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा को लेकर कहा कि लखीमपुर खीरी में 5 किसान भाइयों की गाड़ियों से कुचल कर निर्मम हत्या कर दी गई। यह हृदय विदारक घटना हमारे लोकतंत्र पर एक काले धब्बे के समान है। उन्होंने कहा कि इस घटना में निष्पक्ष जांच एवं न्याय हेतु इसमें लिप्त केंद्रीय मंत्री पर भी सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। लोकतंत्र संविधान, संवाद और संवेदनशीलता से चलता है। देश के किसान आपसे अपनी समस्याओं का संवेदना पूर्वक समयबद्ध निस्तारण की अपेक्षा करते हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.