बड़ी खबर : नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से प्रभावित 784 परिवारों को भूखंड आवंटित हुए, ग्रामीणों ने मांगों का पत्र अफसरों को सौंपा

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से प्रभावित 784 परिवारों को भूखंड आवंटित हुए, ग्रामीणों ने मांगों का पत्र अफसरों को सौंपा

Tricity Today | Symbolic Photo

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Noida International Airport) से प्रभावित गांवों के किसानों को विस्थापित कर जेवर क्षेत्र के जेवर बांगर में बसाने का काम चल रहा है। इसके तहत गुरुवार को 784 भूखंडों का आवंटन किया गया। ये सभी आवंटन जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) से प्रभावित नगला छीतर गांव के लाभार्थियों को किया गया है। हालांकि गुरुवार को आवंटन के दौरान कुछ किसान असंतुष्ट दिखाई दिए। इन सभी काश्तकारों ने आबादी की पैमाइश और मिलने वाले भूखंडों के क्षेत्रफल को लेकर आपत्ति दर्ज कराई। 

विस्थापित लोगों ने जेवर बांगर में मस्जिदों की उचित संख्या की मांग की। इसके अलावा नए मिलने वाले भूखंडों को दो अन्य मार्गों से जोड़ने का मसला उठाया गया। एक समुदाय के लोगों का कहना था कि यहां कब्रिस्तान की भी व्यवस्था होनी चाहिए। प्रशासन ने आबादी की जमीन की दोबारा पैमाइश कराने की मांग स्वीकार कर ली है। जल्दी ही इस पर अमल किया जाएगा। बताते चलें कि इससे पहले 6 मार्च को नगला गणेशी के 238 किसानों को जेवर बांगर में भूखंड आवंटित किए गए थे। इसके बाद यमुना प्राधिकरण 700 नए प्लॉट को विकसित करने में जुटा था। इसी हफ्ते इन प्लॉट को डेवलप कर प्रशासन को सौंप दिया गया था। 

समिति में शामिल हैं ये अधिकारी
अपर आयुक्त मेरठ मंडल, रजनीश राय को आवंटन के लिए गठित समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। उनके अलावा समिति में एडीएम भू-अर्जन बलराम सिंह, यमुना प्राधिकरण के ओएसडी शैलेन्द्र भाटिया, प्रशासक आरएंडआर एवं एसडीएम जेवर रजनीकांत, वरिष्ठ कोषाधिकारी अशोक कुमार, यमुना प्राधिकरण के नियोजन विभाग के ऋतुराज और जिला शासकीय अधिवक्ता नीरज शामिल हैं। 

आबादी की फिर पैमाइश कराने की मांग
जेवर तहसील सभागार में गुरुवार को भूमि अधिग्रहण से प्रभावित गांव नगला छीतर के ग्रामीणों को जेवर बांगर में मिलने वाले 784 प्लॉटों का ड्रा के जरिये आवंटन किया गया। आवंटन में शामिल ग्रामीणों ने अधिकारियों को बताया कि गांव में चार मस्जिद हैं। इसलिए विस्थापन स्थल पर भी चार मस्जिद बनाई जाएं। कब्रिस्तान व ईदगाह के लिए उचित भूमि का इंतजाम किया जाए। साथ ही जेवर बांगर को अन्य वैकल्पिक मार्गों से जोड़ा जाए। इन लाभार्थियों ने आबादी की पैमाइश में धांधली का आरोप लगाया। इन्होंने फिर से आबादी की पैमाइश कराने की मांग की। साथ ही मिलने वाले प्लॉट के क्षेत्रफल को लेकर नाराजगी जताई। 

जल्द एक्शन का दिया आश्वासन
प्रशासन व प्राधिकरण के अधिकारियों ने असंतुष्ट ग्रामीणों की मांगों को सुना और अमल करने का आश्वासन दिया। अफसरों ने कहा कि जल्द ही आबादी की फिर से पैमाइश कराई जाएगी। ग्रामीणों ने 21 सूत्रीय मांगपत्र सौंपकर उन्हें जल्द पूरा करने की मांग की है। मांग पत्र सौंपने वालों में जफर नेताजी, डॉ इब्राहिम, इमरान, रमजान अली, जीमल, मुबीन, बकील, बिलाल अहमद, शाहिद, साकिर, मुस्तकीम आदि मौजूद रहे।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.