जेवर में पीएम नरेंद्र मोदी को भाषण के बीच दिखाया गया बैनर, यह है पूरा मामला

BIG BREAKING : जेवर में पीएम नरेंद्र मोदी को भाषण के बीच दिखाया गया बैनर, यह है पूरा मामला

जेवर में पीएम नरेंद्र मोदी को भाषण के बीच दिखाया गया बैनर, यह है पूरा मामला

Tricity Today | भाषण के बीच दिखाया गया बैनर

जेवर में पीएम नरेंद्र मोदी को भाषण के बीच दिखाया गया बैनर, यह है पूरा मामला जेवर में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब संबोधन कर रहे थे तो वकीलों ने हंगामा खड़ा कर दिया। कुछ वकील भीड़ के बीच बैनर लेकर खड़े हो गए। जिसके चलते कुछ क्षणों के लिए प्रधानमंत्री हालात देखकर ठिठक गए। भीड़ में भी हलचल मच गई। हालांकि, भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने आनन-फानन में वकीलों के हाथ से बैनर छीन लिया। इस बैनर के जरिए इलाहाबाद हाईकोर्ट की बेंच आगरा में स्थापित करने की मांग की गई। आपको बता दें कि पश्चिम उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट की बेंच स्थापित करने के लिए वकील कई दशक से मांग कर रहे हैं। जिस पर अभी तक उत्तर प्रदेश और केंद्र सरकार ने कोई फैसला नहीं लिया है।

पीएम जब भाषण दे रहे थे तो वकीलों ने बैनर दिखाया
जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाषण दे रहे थे तो उसी दौरान भीड़ के बीच से कई वकील खड़े हुए और नारेबाजी करने लगे। हाथ में बैनर लेकर प्रधानमंत्री को दिखाया गया। सफेद रंग के बैनर पर लाल इबारत लिखी थी। बरबस भीड़ के बीच हंगामा देखकर तमाम लोग उस ओर देखने लगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ध्यान भी उस तरफ गया। मंच पर बैठे तमाम नेताओं ने यह प्रदर्शन देखा। आपको बता दें कि आगरा के वकीलों ने हाईकोर्ट की बेंच वेस्ट यूपी में स्थापित करने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन का ऐलान किया था। जिसके चलते जनसभा स्थल पर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद की गई थी। इसके बावजूद वकील विरोध जाहिर करने में सफल हो गए।

कई दशक से चल रहा है वकीलों का आंदोलन
इलाहाबाद हाईकोर्ट की बेंच पश्चिमी उत्तर प्रदेश में स्थापित करने की मांग को लेकर 22 जिलों के वकीलों का आंदोलन कई दशकों से चल रहा है। यहां के वकील मेरठ से आगरा में हाईकोर्ट की बेंच स्थापित करने की मांग कर रहे हैं। जिस पर तमाम राजनीतिक दलों और सरकारें आश्वासन देती रही हैं, लेकिन इस दिशा में अब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया है। इसी बात को लेकर पश्चिम उत्तर प्रदेश के वकील हर सप्ताह 2 दिन कार्य स्थगन रखते हैं। पश्चिम उत्तर प्रदेश के 22 जिलों में शुक्रवार और शनिवार को कामकाज नहीं होता है। करीब 20 वर्षों से यह आंदोलन चल रहा है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.