हादसों के लिए बदनाम हो चले यमुना एक्सप्रेसवे पर इस साल 43% कम दुर्घटनाएं हुईं, जानिए वजह

अच्छी खबर : हादसों के लिए बदनाम हो चले यमुना एक्सप्रेसवे पर इस साल 43% कम दुर्घटनाएं हुईं, जानिए वजह

हादसों के लिए बदनाम हो चले यमुना एक्सप्रेसवे पर इस साल 43% कम दुर्घटनाएं हुईं, जानिए वजह

Tricity Today | यमुना एक्सप्रेसवे

हादसों के लिए बदनाम हो चले यमुना एक्सप्रेसवे पर इस साल 43% कम दुर्घटनाएं हुईं, जानिए वजह Greater Noida : हादसों के लिए बदनाम हो चले यमुना एक्सप्रेसवे (Yamuna Expressway) से अच्छी खबर आई है। एक्सप्रेसवे पर वाहन दुर्घटनाओं में बेहद कमी आई है। बीते साल की अपेक्षा इस साल आधे का अंतर आ गया है। सुप्रीम कोर्ट और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanth) के आदेशों के बाद यमुना एक्सप्रेसवे पर रोकथाम के उपाय कराए गए। जिसका यह असर हुआ है। यमुना एक्सप्रेसवे पर सन 2021 में 949 वाहन दुर्घटनाओं का शिकार हुए थे। इस साल 16 अक्टूबर तक 543 वाहन दुर्घटनाएं हुई हैं। यमुना अथॉरिटी से मिली जानकारी के अनुसार जब तक सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जेपी इंफ्राटेक कंपनी ने अमल नहीं किया था, तब तक हादसे लगातार हो रहे थे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश और दिल्ली आईआईटी की सिफारिशों पर अमल करने के लिए योगी सरकार ने सख्ती बरती थी। लिहाजा, एक्सप्रेसवे पर इस साल 43% कम दुर्घटनाएं हुई हैं।

जेपी इंफ्राटेक कंपनी ने किए कई बड़े सुधार
जेपी इंफ्राटेक कंपनी ग्रेटर नोएडा से लेकर आगरा तक 168 किलोमीटर लंबे यमुना एक्सप्रेसवे का संचालन करती है। एक्सप्रेसवे पर लगातार हो रहे हादसों से राज्य सरकार चिंतित हुई। आईआईटी दिल्ली की और से सुझाए गए उपायों के अनुसार काम करवाया गया। इसमें एक्सप्रेसवे के 172 अंडरपास पर लोहे की एंगल लगाई गई हैं। ग्रेटर नोएडा से लेकर आगरा तक एक्सप्रेसवे के डिवाइडर पर दोनों और क्रैश बीम बेरियर लगाए गए हैं। तय गति सीमा से अधिक स्पीड पर वाहन चलाने वालों के ऑटोमेटिक चालान काटे जा रहे हैं। स्पीड गन की संख्या बढ़ाई गई है।

इस साल हादसों से जुड़े आंकड़े
यमुना प्राधिकरण से मिली जानकारी के मुताबिक साल 2021 के जनवरी माह में 88 वाहन दुर्घटनाएं हुई थीं। जबकि जनवरी 2022 में केवल 20 वाहन दुर्घटना हुई हैं। इसी तरह फरवरी 2021 में 73 तो फरवरी 2022 में 40, मार्च 2021 में 129 तो मार्च 2022 में 49, अप्रैल 2021 में 72 तो अप्रैल 2022 में 45 हादसे हुए हैं। इसी तरह मई 2021 में 28 हादसे हुए तो मई 2022 में 132 हादसे हुए। साल 2022 का यह अकेला महीना है, जिसमें 2021 के मुकाबले दुर्घटनाएं बहुत ज्यादा हुई हैं। जून 2021 में 111 दुर्घटनाएं यमुना एक्सप्रेसवे पर हुईं तो 2022 में 73 हुई हैं। जुलाई 2021 में 106 तो जुलाई 2022 में 59, अगस्त 2021 में 101 तो 2022 के अगस्त महीने में 36, सितंबर 2021 में 83 तो सितंबर 2022 में 56 हादसे हुए हैं। प्राधिकरण की ओर से बताया गया है कि साल 2021 में 23 अक्टूबर तक 55 हादसे हुए थे तो 23 अक्टूबर 2022 तक केवल 16 वाहन दुर्घटना हुई हैं।

अभी और सुधार किए जाएंगे : डॉ.अरुणवीर सिंह
यमुना अथॉरिटी के सीईओ डॉ.अरुणवीर सिंह का कहना है कि यमुना एक्सप्रेसवे पर वाहन दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए सभी तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। जल्दी ही यमुना एक्सप्रेसवे पर हर एक किलोमीटर की दूसरी में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इसके आवला अन्य सुरक्षा उपाय किए जाएंगे। आईआईटी दिल्ली की सिफारिशों पर किए गए उपायों ने एक्सप्रेसवे को सुरक्षित बनाया है। पिछले साल के मुकाबले इस साल हादसे काफी संख्या में घटे हैं।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.