खुशखबरी : यूपी दिवस में होगी जेवर एयरपोर्ट और फिल्म सिटी की धूम, यमुना प्राधिकरण ने लिया यह बड़ा फैसला

यूपी दिवस में होगी जेवर एयरपोर्ट और फिल्म सिटी की धूम, यमुना प्राधिकरण ने लिया यह बड़ा फैसला

Tricity Today | Dr Arunvir Singh IAS

इस बार उत्तर प्रदेश दिवस का आयोजन राजधानी लखनऊ के साथ-साथ नोएडा में भी किया जा रहा है। नोएडा के शिल्पहाट में यह आयोजन होगा। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 25 दिसंबर को कार्यक्रम में शामिल होने के लिए नोएडा आ रहे हैं। यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण यूपी दिवस समारोह में जेवर एयरपोर्ट, फिल्म सिटी, टॉय सिटी, एमएसएमई क्लस्टर और अपनी कई महत्वाकांक्षी परियोजनाओं को लेकर शामिल होगा। 

यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अरुणवीर सिंह ने बताया कि नोएडा में यूपी दिवस का आयोजन तीनों विकास प्राधिकरण मिलकर कर रहे हैं। साथ में राज्य सरकार के कई और विभाग शामिल हो रहे हैं। शिल्पहाट में यमुना प्राधिकरण को एक पवेलियन आवंटित किया गया है। वहां जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट, फिल्म सिटी प्रोजेक्ट, टॉय सिटी, एमएसएमई क्लस्टर, मेडिकल उपकरण पार्क और इंडस्ट्रियल हब को लोगों के सामने पेश किया जाएगा। यमुना प्राधिकरण के पवेलियन में इन सारी परियोजनाओं को अच्छी तरह डिस्प्ले करने की तैयारी चल रही है। जानकारी मिली है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी तीनों विकास प्राधिकरण के पवेलियन का दौरा करेंगे।

आपको बता दें कि यमुना प्राधिकरण में बुधवार को यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड और नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) के बीच बैठक हुई। यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ क्रिस्टोफ सेलमेन ने बताया कि परियोजना की साइट में आने वाले स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र व बिजली की लाइन को हटा लिया जाए ताकि वहां पर कोई व्यवधान ना रहे। नियाल की सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि यह पहले तय हो चुका है कि इन कामों को 28 फरवरी तक पूरा कर लिया जाएगा। मुख्य सचिव ने इसके लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। संबंधित विभाग इस पर काम कर रहे हैं।
 
यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अरुण वीर सिंह ने कहा कि अप्रैल से दिसंबर तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश के इस क्षेत्र में 911 कंपनियों को प्लॉट आवंटित किए हैं। इनसे 1.91 लाख रोजगार के अवसरों का सृजन होने की उम्मीद है। अरुण वीर सिंह नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा लिमिटेड (नायल) के सीईओ भी हैं। उन्होंने कहा कि इस विशाल नयी परियोजना से उत्तर प्रदेश के जेवर क्षेत्र में जबर्दस्त बुनियादी ढांचा विकास हो रहा है। इसमें सड़क और रेल संपर्क भी शामिल हैं। यह राष्ट्रीय राजधानी से करीब 70 किलोमीटर पर स्थित है।

जेवर को ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे, दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से जोड़ा जाएगा। साथ ही ग्रेटर नोएडा मेट्रो से भी यह क्षेत्र जुड़ा होगाा। सिंह ने कहा कि महत्वाकांक्षी दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन का एक स्टेशन नोएडा हवाईअड्डे पर भी होगा। उन्होंने कहा, ''यह सबकुछ पहली उड़ान से पूर्व तैयार हो जाएगा। पहली उड़ान दिसंबर, 2023 या जनवरी, 2024 में होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा, ''हवाईअड्डे की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) में दिल्ली से वाराणसी के बीच प्रस्तावित बुलेट ट्रेन के एक स्टेशन का उल्लेख है। इसके अलावा ग्रेटर नोएडा को जेवर से जोड़ने वाली मेट्रो लाइन को भी मंजूरी मिल चुकी है। उन्होंने स्पष्ट किया कि दिल्ली हवाईअड्डे से जेवर हवाईअड्डे के लिए कोई अलग सीधी मेट्रो लाइन नहीं होगी।

यमुना प्राधिकरण के अधिसूचित क्षेत्र पर एक नजर
जिला अधिसूचित गांव क्षेत्रफल
गौतमबुद्ध नगर 131 58,397
बुलंदशहर 40 ----
अलीगढ़ 105 34,291
हाथरस 420 88,968
मथुरा 431 7,5751
आगरा 60 11,455

उत्तर प्रदेश में बनने जा रही फिल्म सिटी हॉलीवुड की तरह विकसित की जाएगी। यहां डिजिटल स्टूडियो से लेकर वीएफएक्स स्टूडियो और फिल्म अकादमी बनाई जाएंगी। अमेरिका की सबसे बड़ी कंसल्टिंग फर्म सीबीआरआई एशिया इसके लिए दुनिया भर के फिल्म स्टूडियो और थीम पार्क का अध्ययन कर रही है। इसमें हॉलीवुड और डेविड वॉर्नर ग्रुप की फ़िल्म सिटी भी शामिल हैं। अमेरिका के अलावा चीन और जापान की फ़िल्म सिटी में तकनीक व सुविधाओं का आंकलन कम्पनी करेगी।

सीबीआरआई कंपनी ने बतौर सलाहकार यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण को विचार पत्र दिया है। उसके मुताबिक पहले चरण में 12 क्षेत्रों पर खास फोकस किया जाएगा। इसमें स्टेट ऑफ आर्ट स्टूडियो, आउटडोर सेट और शूटिंग विलेज शामिल हैं। पोस्ट प्रोडक्शन के क्षेत्र में वीएफएक्स स्टूडियो बनाए जाएंगे। एडटिंग स्टूडियो होंगे। म्यूजिक डबिंग स्टूडियो भी विश्वस्तरीय होंगे। फिल्म प्रीमियर और फिल्म फेस्टीवल के लिए विशेष आयोजन स्थल होंगे। फिल्म अकादमी भी इस परिसर में अलग से बनेगी।

इसके अलावा फ़िल्म सिटी में पंचतारा होटल, डारमेट्री, रिटेल शॉप, रेस्टोरेंट और मनोरंजन पार्क भी बनेंगे। इसके अलावा फिल्म निर्माण से जुड़ी वस्तुओं और उनका इतिहास संजोता म्यूजियम भी स्थापित किया जाएगा। सलाहकार कंपनी का अथॉरिटी के साथ एमओयू हो चुका है। कम्पनी अगले महीने अपनी विस्तृत कार्य योजना रिपोर्ट पेश करेगी। इसमें फंड कैसे एकत्र किया जाए, इस बिंदु से लेकर इसके मॉडल जैसे मुद्दों पर अपनी सलाह देगी। अभी यह तय होना है कि सरकार इसके निर्माण का खर्च उठाएगी या फिर पीपीपी मॉडल पर इसे विकसित किया जाए। इंटरनेशनल कंसलटेंट कंपनी मुंबई, हैदराबाद, चैन्नई और विदेशों के तमाम फिल्म स्टूडियो संचालकों से बात कर रही है। फिल्म सिटी को लेकर दुनिया भर में चल रही बेस्ट प्रैक्टिसेस के बारे में बताया जाएगा।

कंसलटेंट कंपनी विभिन्न स्टेक होल्डर हॉलीवुड, बॉलीवुड और टॉलीवुड समेत दुनिया भर की फिल्म सिटी में फिल्म स्टूडियो व विभिन्न प्रोडक्शन हाउस से बात कर रही है। वहां की सबसे बेहतरीन चीजों को यहां की फिल्म सिटी में लाया जाएगा। शासन तय करेगा कि निर्माण के लिए कौन सा मॉडल उपयुक्त रहेगा। लेकिन यह साफ है कि फिल्म सिटी विश्वस्तरीय बनेगी। इससे कोई समझौता नहीं होगा। यह फिल्म सिटी यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे 1000 एकड़ जमीन पर बनेगी। 
- अरुणवीर सिंह, सीईओ, यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.