विकासकर्ता कंपनी को सौंपी गई नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की जमीन, सीएम आदित्यनाथ ने दिया बड़ा बयान

BIG BREAKING: विकासकर्ता कंपनी को सौंपी गई नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की जमीन, सीएम आदित्यनाथ ने दिया बड़ा बयान

विकासकर्ता कंपनी को सौंपी गई नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की जमीन, सीएम आदित्यनाथ ने दिया बड़ा बयान

Tricity Today | विकासकर्ता कंपनी को सौंपी गई नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की जमीन

विकासकर्ता कंपनी को सौंपी गई नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की जमीन, सीएम आदित्यनाथ ने दिया बड़ा बयान
  • जमीन विकासकर्ता कंपनी ज्यूरिख़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट एजी को दे दी गई है
  • अगले महीने 22 से 25 अगस्त के बीच किसी भी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसका भूमिपूजन और शिलान्यास करेंगे
  • भूमि हस्तांतरण के मौके पर राजधानी में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया
  • जेवर एयरपोर्ट की स्थापना से प्रदेश में न केवल निवेश की भारी संभावनाएं तेज़ी से बढ़ेगीं
Lucknow News: जेवर में प्रस्तावित नोएडा इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट (Noida International Airport) को लेकर बड़ी खबर है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की उपस्थिति में आज राजधानी लखनऊ में जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) की जमीन विकासकर्ता कंपनी ज्यूरिख़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट एजी को दे दी गई है। इसके तहत पहले चरण के लिए 1334 हेक्टेयर जमीन दी गई है। अब इस जमीन पर एजी की एसपीवी यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (वाईआईएपीएल) का कब्जा हो गया है। 

अगले महीने होगा भूमिपूजन
अगले महीने 22 से 25 अगस्त के बीच किसी भी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसका भूमिपूजन और शिलान्यास करेंगे। इसके बाद किसी भी दिन यहां निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। भूमि हस्तांतरण के मौके पर राजधानी में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इसमें नियाल, ज्यूरिख एयरपोर्ट एजी और यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के अधिकारी उपस्थित रहे। 

निवेश और रोजगार का केंद्र होगा
इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, जेवर एयरपोर्ट की स्थापना से प्रदेश में न केवल निवेश की भारी संभावनाएं तेज़ी से बढ़ेगीं। बल्कि रोज़गार के माध्यम से प्रदेश में पलायन की समस्या को काफी हद तक रोकने में भी मदद मिलेगी। आज पहले चरण के जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के निर्माण के लिए 1334 हेक्टेयर भूमि हस्तांतरित कर दी गई है। जेवर एयरपोर्ट की स्थापना से विभिन्न प्रकार के निवेश के माध्यम से प्रदेश के लाखों युवाओं को नौकरी और रोज़गार की संभावनाएं भी विकसित होंगी। इसलिए भारत सरकार ने प्रदेश सरकार को समय-समय पर भरपूर सहयोग किया है। इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद दिया। 

विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगा
सीएम योगी ने आगे कहा, भूमि हस्तांतरण एयरपोर्ट के त्वरित गति से निर्माण तथा उत्तर प्रदेश के त्वरित विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगा। आज के उत्तर प्रदेश को विश्व पटल पर विकास योजनाओं को तेजी के साथ क्रियान्वित करने के लिए जाना जाएगा। इस परियोजना के पूरी होने के उपरान्त उत्तर प्रदेश की एयर कनेक्टिविटी और बेहतर हो जाएगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना है कि आम आदमी को भी हवाई सेवाएं उपलब्ध हो सकें। जेवर एयरपोर्ट का विकास उनके इस सपने को साकार करेगा। साथ ही, यह एयरपोर्ट देश तथा प्रदेश की अर्थव्यवस्था को तेजी से आगे बढ़ाने में भी मददगार साबित होगा।

40 साल का लाइसेंस मिलेगा
गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने नागरिक उड्डयन विभाग के नाम से पहले चरण के लिए 1,334 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया था। अब एयरपोर्ट साइट पूरी तरह से खाली है। विकासकर्ता कंपनी को जमीन पर कब्जा दे दिया है। वहां पर निर्माण कार्य करने के लिए लाइसेंस भी दे दिया जाएगा। निर्माण कार्य के लिए 40 साल का लाइसेंस भी दिया जाएगा। आज कब्जा मिलने के बाद कभी भी काम शुरू हो सकता है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.