मेडिकल डिवाइस पार्क में बनेगा साइंटिफिक फैसिलिटी सेंटर, बनाने के लिए सलाहकार कंपनी की तलाश शुरू

नोएडा एयरपोर्ट के पास : मेडिकल डिवाइस पार्क में बनेगा साइंटिफिक फैसिलिटी सेंटर, बनाने के लिए सलाहकार कंपनी की तलाश शुरू

मेडिकल डिवाइस पार्क में बनेगा साइंटिफिक फैसिलिटी सेंटर, बनाने के लिए सलाहकार कंपनी की तलाश शुरू

Google Image | Medical Device Park

मेडिकल डिवाइस पार्क में बनेगा साइंटिफिक फैसिलिटी सेंटर, बनाने के लिए सलाहकार कंपनी की तलाश शुरू Greater Noida/Yamuna City : मेडिकल डिवाइस पार्क में बनने वाले कॉमन साइंटिफिक फैसिलिटी सेंटर के लिए सलाहकार कंपनी के चयन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस सेंटर में मेडिकल उपकरण से जुड़े सभी तरह के शोध और अन्य सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। यमुना प्राधिकरण के सेक्टर-28 में 350 एकड़ में मेडिकल डिवाइस पार्क विकसित किया जा रहा है। पहले चरण में 37 कंपनियों को जमीन आवंटित हो चुकी है। जल्द ही दूसरे चरण की योजना निकाली जाएगी। 

सोमवार को वित्तीय निविदा खोली जाएगी
मेडिकल डिवाइस पार्क में कॉमन साइंटिफिक फैसिलिटी सेंटर विकसित किया जाएगा। इस सेंटर को बनाने और संचालित करने के लिए सलाहकार कंपनी की तलाश यमुना प्राधिकरण ने शुरू कर दी है। इसके लिए आरएफपी (रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल) निकाला गया था। इसमें तीन कंपनियां आई हैं। इसमें वायंट कंसलटेंट, मेहता एसोसिएट्स और आर्क एंड डिजाइन कंपनी शामिल है। शुक्रवार को तीनों कंपनियों का प्रजेंटेशन देखा गया। अब सोमवार को वित्तीय निविदा खोली जाएगी।

इन सुविधाओं से होगा लैस 
कॉमन साइंटिफिक सेंटर में कंपनियों को कई सुविधाएं मिलेंगी। इसमें बायो मैकेनिकल लैब, गामा रेडिएशन सेंटर, इलेक्ट्रॉनिक जोन, वेयरहाउसिंग सुविधा, इनक्यूबेटर, टिश्यू कल्चर, रिसर्च एंड डेवलपमेंट, थ्री डी डिजाइन रैपिड प्रोटोटाइपिंग एंड टूलिंग, इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम एंड डिजाइन फैसिलिटी आदि शामिल है। 

फ्लैटेड फैक्ट्री बनाई जाएंगी
वहीं, मेडिकल डिवाइस पार्क को जल्द शुरू करने के लिए फ्लैटेड फैक्ट्री बनाई जाएंगी। शुरुआत में फ्लैटेड फैक्ट्री के तीन कंपाउंड बनाए जाएंगे। यह 4 मंजिला होंगे। इसमें प्लग एंड प्ले की सुविधा रहेगी। इन्हें मेडिकल उपकरण बनाने वाली कंपनियों को किराये पर दिया जाएगा। 

एक्सपोर्ट काउंसलिंग ऑफिस के लिए 5 एकड़ जमीन मिली
इसके अलावा मेडिकल डिवाइस पार्क में मेडिकल एक्सपोर्ट काउंसलिंग का मुख्य दफ्तर भी बनेगा। इसके लिए यमुना प्राधिकरण 5 एकड़ जमीन दे चुका है। इसके चार रीजनल सेंटर भी होंगे। एक्सपोर्ट काउंसिल का दफ्तर बनने से उद्यमियों को आयात-निर्यात में दिक्कत नहीं होगी।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.