दादरी में घिरीं गीता पंडित, बागियों को मनाने में जुटी भाजपा

Mayank Tawer

NOIDA: नगर निकाय चुनाव का बिगुल बजते ही उठा पटक शुरू हो गई है। सबसे बुरा हाल गौतमबुद्ध नगर में दादरी नगर पालिका सीट पर है। यहां भाजपा की गीता पंडित मौजूदा चेयरमैन हैं। लेकिन वह बागियों से घिर गई हैं। जिससे भाजपा नेताओं की सांसें उखड़ी हुई हैं।

भाजपा को पहला झटका व्यापारी नेता मनोज गोयल उर्फ़ मूली ने दिया। सांसद और केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा के व्यवहार से आहत होकर मनोज गोयल समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। सपा ने उन्हें बिना देर किए टिकट थमा दिया। अब कस्बे के पुराने और कद्दावर ब्राह्मण नेता प्रेमचंद शर्मा ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है। प्रेमचंद शर्मा और गीता पंडित सजातीय हैं।

प्रेम पंडित जी ने 5 नवम्बर को नामांकन करने की घोषणा कर दी है। वह घर घर जाकर वोट मांग रहे हैं। शुक्रवार को उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट डालकर कस्बे के लोगों से नामांकन के दिन समर्थन मांगा है। जानकारों का कहना है कि मनोज गोयल, गीता पंडित और प्रेम पण्डित के बीच भाजपा के वोटों का विभाजन होगा। जिसका सीधा नुक्सान गीता पण्डित को होगा। जानकारी मिली है कि प्रेम पण्डित को दावेदारी से हटाने से लिए भाजपा के कई बड़े नेता प्रयास कर चुके हैं लेकिन अभी कामयाबी नहीं मिली है।

समाजवादी पार्टी को दादरी में बड़ा लाभ
अभी समाजवादी पार्टी सबसे मजबूत नजर आ रही है। मनोज गोयल के साथ गुर्जर, मुसलमान और वैश्य वोटरों का समर्थन है। गीता पंडित का समीकरण ब्राह्मण, वैश्य और ठाकुर वोटरों पर टिका है। अब ब्राह्मण और वैश्य समाज में विभाजन होगा। 

भाजपा ने उम्मीदवार घोषित नहीं किया
समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। जिले में भाजपा सबसे मजबूत पार्टी है लेकिन अभी तक उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। हालांकि, गीता पण्डित को सिटिंग चेयरमैन होने के कारण भाजपा का सम्भावित उम्मीदवार माना जा रहा है।