बड़ी ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट में आम्रपाली ग्रुप के मामले में की सुनवाई

Tricity Today Correspondent

आज पुनः सुप्रीम कोर्ट में आम्रपाली ग्रुप के मामले में नेफोवा तथा अन्य आम्रपाली बायर ग्रुप की याचिका पर सुनवाई हुई। 

सुप्रीम कोर्ट द्वारा आम्रापली को एक महीने के अंदर फ़िनिशिंग स्टेज वाले प्रोजेक्ट पर तेजी से काम करके स्टेटस रिपोर्ट जमा करने को कहा गया है । इसके साथ ही 6 मार्च तक आम्रपाली के प्रमोटर को अंडरटेकिंग कोर्ट मे जमा करना है। 

अभी आम्रपाली को खुद से पैसे लगाने को बोला गया है। कोर्ट ने बार बार ये चेताया कि अगर निर्धारित समय में आम्रापली ने टावर वाइज प्रोजेक्ट तैयार करके न दिए, तो उन्हें जेल भेज जाएगा। कोर्ट ने ये भी कहा कि उनके ऊपर न रेरा का कोई प्रभाव होगा और न ही दिवालियेपन की प्रक्रिया आरे आएगी। उनकी प्राथमिकता सिर्फ और सिर्फ लोगों को जल्द से जल्द घर तैयार करवाकर देने की है।

आम्रपाली के को डेवेलोपेर विनय शाही ने बताया कि  उन्होंने सेंचुरियन पार्क प्रोजेक्ट के सभी टावरों को पूरा करने का प्लान कोर्ट में जमा कर दिया है और सेंचुरियन पार्क प्रोजेक्ट के कुछ टावर के पोजेसन अगले तीन महीने के अंदर दे दिये जायेंगे।

नेफोवा अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने बताया कि जबतक एक एक होम बायर को उनका घर नही मिल जाता, तबतक नेफोवा का संघर्ष जारी रहेगा। नेफोवा तथा अन्य आम्रपाली बायर ग्रुप द्वारा दायर याचिका पर अगली सुनवाई 27 मार्च को होगी।