CDS बिपिन रावत नहीं रहे, जानिए उनके 4 दशक लंबे करियर के बारे में ख़ास बातें

दुःखद : CDS बिपिन रावत नहीं रहे, जानिए उनके 4 दशक लंबे करियर के बारे में ख़ास बातें

CDS बिपिन रावत नहीं रहे, जानिए उनके 4 दशक लंबे करियर के बारे में ख़ास बातें

Google Image | बिपिन रावत

CDS बिपिन रावत नहीं रहे, जानिए उनके 4 दशक लंबे करियर के बारे में ख़ास बातें Bipin Rawat Helicopter Crash : आज सुबह तमिलनाडु के कुन्नूर जिले में हुई हवाई दुर्घटना में भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेन्स स्टाफ जनरल बिपिन रावत की मौत हो गई है। उनके साथ उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 12 अन्य सैन्य अधिकारी-सुरक्षाकर्मी भी हादसे का शिकार हो गए। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और सेना मुख्यालय की ओर से यह जानकारी दी गई है। जनरल बिपिन रावत ने करीब 40 वर्षों तक भारतीय सेना में काम किया। उनके नाम पर कई शानदार उपलब्धियां दर्ज हैं। जिन्हें हमेशा याद किया जाएगा।

उत्तराखंड के मूल निवासी थे जनरल रावत
रावत का जन्म उत्तराखंड के पौड़ी में 16 मार्च 1958 को हुआ था। इस हिंदू गढ़वाली परिवार में कई पीढ़ियों से कई लोग भारतीय सेना में सेवा दे रहे हैं। उनके पिता लक्ष्मण सिंह रावत पौड़ी गढ़वाल जिले के सैंज गांव से थे और जनरल के पद तक पहुंचे। उनकी मां उत्तरकाशी जिले से थीं और उत्तरकाशी से पूर्व एमएलए किशन सिंह परमार की बेटी थीं। रावत ने देहरादून के कैम्ब्रियन हॉल स्कूल और शिमला के सेंट एडवर्ड स्कूल में पढ़ाई की। इसके बाद वे राष्ट्रीय रक्षा अकादमी खडकवासला और भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून में शामिल हुए। एकेडमी में उन्हें 'स्वॉर्ड ऑफ़ ऑनर' से सम्मानित किया गया।

अपने कॉलेज में लेक्चर देने गए थे जनरल
रावत ने डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज (डीएसएससी) वेलिंगटन और यूनाइटेड स्टेट्स आर्मी कमांड के हायर कमांड कोर्स किए थे। फोर्ट लीवेनवर्थ कंसास में जनरल स्टाफ कॉलेज से स्नातक किया था। डीएसएससी से उनके पास रक्षा अध्ययन में एमफिल की डिग्री के साथ-साथ मद्रास विश्वविद्यालय से प्रबंधन और कंप्यूटर अध्ययन में डिप्लोमा था। 2011 में उन्हें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ सैन्य-मीडिया रणनीतिक अध्ययन पर उनके शोध के लिए डॉक्टरेट ऑफ फिलॉसफी से सम्मानित किया गया था। मंगलवार को जनरल रावत कुन्नूर में डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज एक लेक्चर देने गए थे। वहीं उनका हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया।

पिता की ब्रिगेड में 1978 में जोइनिंग
जनरल रावत को 16 दिसंबर 1978 को 11 गोरखा राइफल्स की 5वीं बटालियन में नियुक्त किया गया था, जो उनके पिता की भी इकाई थी। उनके पास उच्च ऊंचाई वाले युद्ध का बहुत अनुभव  था और उन्होंने आतंकवाद विरोधी अभियानों का संचालन करते हुए दस साल बिताए। मेजर के रूप में उरी, जम्मू और कश्मीर में एक कंपनी की कमान संभाली। कर्नल के रूप में उन्होंने किबिथू में वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ पूर्वी सेक्टर में अपनी 5वीं बटालियन 11-गोरखा राइफल्स की कमान संभाली। ब्रिगेडियर के पद पर पदोन्नत होकर उन्होंने सोपोर में राष्ट्रीय राइफल्स के 5 सेक्टर की कमान संभाली। इसके बाद उन्होंने कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में मिशन के तहत बहुराष्ट्रीय ब्रिगेड की कमान संभाली। जहां उन्हें दो बार फोर्स कमांडर्स कमेंडेशन से सम्मानित किया गया।

मिलिट्री ऑपरेशन्स में महारत
मेजर जनरल के पद पर पदोन्नति के बाद रावत ने 19वीं इन्फैंट्री डिवीजन (उरी) के जनरल ऑफिसर कमांडिंग के रूप में काम किया। लेफ्टिनेंट जनरल के रूप में उन्होंने पुणे में दक्षिणी सेना को संभालने से पहले दीमापुर में मुख्यालय वाली तीसरी कोर की कमान संभाली। उन्होंने भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून में एक अनुदेशात्मक कार्यकाल, सैन्य संचालन निदेशालय में जनरल स्टाफ ऑफिसर ग्रेड-2, मध्य भारत में एक पुनर्गठित आर्मी प्लेन्स इन्फैंट्री डिवीजन के लॉजिस्टिक्स स्टाफ ऑफिसर और स्टाफ असाइनमेंट भी संभाला था। सैन्य सचिव, उप सैन्य सचिव और जूनियर कमांड विंग में वरिष्ठ प्रशिक्षक रहे। उन्होंने पूर्वी कमान के मेजर जनरल जनरल स्टाफ के रूप में भी काम किया।

थलसेना के 27वें अध्यक्ष
सेना कमांडर ग्रेड में पदोन्नत होने के बाद रावत ने 1 जनवरी 2016 को दक्षिणी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ का पद ग्रहण किया। एक छोटे कार्यकाल के बाद उन्होंने 1 सितंबर 2016 को थल सेना के उप प्रमुख का पद ग्रहण किया। 17 दिसंबर 2016 को भारत सरकार ने उन्हें दो और वरिष्ठ लेफ्टिनेंट जनरलों प्रवीण बख्शी और पीएम हारिज़ को पीछे छोड़ते हुए 27वें थल सेनाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया। उन्होंने जनरल दलबीर सिंह सुहाग की सेवानिवृत्ति के बाद 31 दिसंबर 2016 को 27वें सीओएएस के रूप में सेनाध्यक्ष का पद ग्रहण किया।

नेपाली सेना के मानद जनरल थे
वह फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ और जनरल दलबीर सिंह सुहाग के बाद गोरखा ब्रिगेड के थल सेनाध्यक्ष बनने वाले तीसरे अधिकारी हैं। वर्ष 2019 में संयुक्त राज्य अमेरिका की अपनी यात्रा पर जनरल रावत को यूनाइटेड स्टेट्स आर्मी कमांड और जनरल स्टाफ कॉलेज इंटरनेशनल हॉल ऑफ़ फ़ेम में शामिल किया गया था। वह नेपाली सेना के मानद जनरल भी थे। भारतीय और नेपाली सेनाओं के बीच एक-दूसरे के प्रमुखों को उनके करीबी और विशेष सैन्य संबंधों को दर्शाने के लिए जनरल की मानद रैंक प्रदान करने की परंपरा रही है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.