एनसीआर में बड़े मोबाइल चोर गैंग के 6 बदमाश गिरफ्तार, आईएमईआई नंबर चेंज कर बंगाल और नेपाल तक करते थे सप्लाई

गाजियाबाद पुलिस की बड़ी कामयाबी : एनसीआर में बड़े मोबाइल चोर गैंग के 6 बदमाश गिरफ्तार, आईएमईआई नंबर चेंज कर बंगाल और नेपाल तक करते थे सप्लाई

एनसीआर में बड़े मोबाइल चोर गैंग के 6 बदमाश गिरफ्तार, आईएमईआई नंबर चेंज कर बंगाल और नेपाल तक करते थे सप्लाई

Tricity Today | 6 बदमाश गिरफ्तार

एनसीआर में बड़े मोबाइल चोर गैंग के 6 बदमाश गिरफ्तार, आईएमईआई नंबर चेंज कर बंगाल और नेपाल तक करते थे सप्लाई Ghaziabad News : मोबाइल लूटने के बाद आईएमईआई नंबर चेंज कर दूसरे राज्यों में सप्लाई करने वाले एक गिरोह को गाजियाबाद पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह लोग मोबाइल को चोरी कर उनको खोलकर उनका आईएमईआई नंबर चेंज कर देते थे। उसके बाद दूसरे राज्य में बेच देते थे। गिरोह के 6 शातिर लुटेरों को एन्टी स्नैचिंग सैल और ट्रोनिका सिटी की थाना पुलिस की संयुक्त टीम ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनके कब्जे से चोरी की बाइक, 18 मोबाइल, तीन चाकू, सीपीयू, मॉनिटर, आईएमईआई चेन्ज करने का सॉफ्टवेर, पेन ड्राइव और डोंगल बरामद किया है। 

इन पुलिस कर्मियों ने किया गिरफ्तार
एसपी देहात डॉ ईरज राजा ने बताया कि इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान सिद्दकी, प्रजन्त त्यागी, संजीव कुमार, अनिल कुमार की संयुक्त टीम ने सोमवार सुबह मुखबिर की सूचना पर इमामुदीन उर्फ धोनी, हासिम उर्फ कासिम, अब्दुल्ला निवासी कासिम विहार पानी की टंकी, हबीब,कासिम, अकरम निवासी ट्रोनिका सिटी को गिरफ्तार किया गया। 

मजदूरों को 4 से 5 हजार रूपए में बेचते थे
पुलिस पूछताछ में कासिम, अब्दुल, हासिम उर्फ कासिम ने बताया कि वह हबीब, कासिम और हासिम कविनगर व  सिहानीगेट क्षेत्र में अगल-अलग जगह घूमकर राहगीरों से मोबाइल लूट की वारदातों को अंजाम देते थे। लूट के मोाबइलों को हबीब और इमामुदीन उर्फ धोनी को अकरम से फोन के लॉक तुडवाकर और आईएमईआई नंबर चेंज कराकर बिहार, झारखण्ड, बंगाल और नेपाल के मजदूरों को 4 से 5 हजार रूपए में बेच देते थे। 

हजारों लोगों के मोबाइल लूटे 
पूछताछ में धोनी ने बताया कि हासिम, कासिम, अब्दुला, कासिम मोबाइलों को चोरी करने के बाइ हबीब और धोनी को बेचता था। जिसकी एवज में वह उसे 500 रूपये देता था। उसके बाद उन्हीं फोनों के लॉक तोड़कर आईएमईआई नंबर बदलकर बाहरी राज्यों में बेचते थे। आरोपित अब तक हजारों मोबाइलों को बेच चुके है। जिनका अपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.