दोस्त गायब हुआ तो नाबालिग को 2 दिनों तक चौकी में बैठाया, परीक्षा से भी हुआ वांछित

गाजियाबाद : दोस्त गायब हुआ तो नाबालिग को 2 दिनों तक चौकी में बैठाया, परीक्षा से भी हुआ वांछित

दोस्त गायब हुआ तो नाबालिग को 2 दिनों तक चौकी में बैठाया, परीक्षा से भी हुआ वांछित

Google Image | प्रतीकात्मक फोटो

दोस्त गायब हुआ तो नाबालिग को 2 दिनों तक चौकी में बैठाया, परीक्षा से भी हुआ वांछित Ghaziabad News : दोस्त गायब हुआ तो पुलिस ने नाबालिग को 2 दिन तक निवाड़ी रोड चौकी पर बैठाए रखा और बिना पर्याप्त साक्ष्य उससे पूछताछ की। इससे नाबालिग की दसवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा तो छूटी ही साथ ही पूरा साल भी खराब हो गया। दोस्त के मिलने पर पुलिस ने गुरुवार सुबह नाबालिग को छोड़ा। इस तरह दो दिन तक बेवजह पुलिस हिरासत में रहने से नाबालिग का मनोबल तो टूटा साथ ही पुलिस से उनका विश्वास भी उठ गया। तभी से वह गुमसुम हैं। किसी से बात भी नहीं कर रहा है। मामले में नाबालिग के स्वजन ने चौकी प्रभारी के खिलाफ डीएम और एसएसपी से शिकायत की है। 

उनका कहना है कि बिना किसी अपराध के उनके बेटे को दो दिन चौकी में बिठाए रखना असंवैधानिक है। बेगमाबाद गांव के तुषार कुमार और तिबड़ा गांव के शिवम कुमार दोस्त हैं। दोनों दसवीं कक्षा के छात्र हैं। एक साथ ही दोनों तिबड़ा रोड स्थित एक कोचिग सेंटर पर ट्यूशन पढऩे जाते हैं। सोमवार दोपहर दोनों ट्यूशन गए थे। लौटते समय शिवम तुषार को बस स्टैंड पर पेट्रोल पंप के पास छोड़कर अपने घर तिबड़ा चले गए थे। शाम के समय शिवम को पता चला कि तुषार तो अपने घर पहुंचा ही नहीं है। कुछ ही देर पुलिस तुषार के घर पहुंची और उसे थाने लेकर चली गई। 

स्वजन ने पूछा तो पुलिस ने कोई जवाब नहीं दिया। थोड़ी ही देर में शिवम के पिता भी थाने पहुंच गए लेकिन जब तक उनके बेटे को चौकी ले गए थे। तभी से लेकर बुधवार देर रात तक शिवम को नहीं छोड़ा गया। इस बीच मंगलवार को शिवम की बोर्ड परीक्षा थी। स्वजन ने परीक्षा दिलाने के लिए पुलिस से शिवम को छोड़ने के लिए कहा लेकिन उन्होंने उसकी एक नहीं सुनी। परीक्षा दिलाने से साफ इंकार कर दिया। 

बुधवार रात पुलिस ने तुषार को गाजियाबाद से बरामद कर लिया। पुलिस के अनुसार तुषार घूमने के लिए गाजियाबाद चला गया था। मुखबिर से सूचना मिलने पर उसे बरामद किया गया। अब बरामदगी होने पर शिवम के स्वजन पुलिस पर सवाल खड़े कर रहे हैं। शिवम के पिता ने बताया कि निवाड़ी रोड चौकी प्रभारी उनके बेटे को धमकाता था। उनके सामने ही बेटे को जेल भेजने की धमकी देता था। उसपर बेवजह दबाव बनाया जा रहा है। बिना कोई अपराध किए सजा शिवम को मिली। मामले में चौकी प्रभारी शशि भारद्वाज का कहना है कि स्वजन ने ही पुलिस से बोर्ड परीक्षा नहीं देने के लिए कहा था।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.