पंचशील बिल्डर के खिलाफ लगातार तीसरे रविवार हुआ प्रदर्शन, बूढ़े, बच्चे और महिलाएं भी हुए शामिल

ग्रेटर नोएडा वेस्ट : पंचशील बिल्डर के खिलाफ लगातार तीसरे रविवार हुआ प्रदर्शन, बूढ़े, बच्चे और महिलाएं भी हुए शामिल

पंचशील बिल्डर के खिलाफ लगातार तीसरे रविवार हुआ प्रदर्शन, बूढ़े, बच्चे और महिलाएं भी हुए शामिल

Tricity Today | प्रदर्शन में बूढ़े, बच्चे और महिलाएं भी हुए शामिल

पंचशील बिल्डर के खिलाफ लगातार तीसरे रविवार हुआ प्रदर्शन, बूढ़े, बच्चे और महिलाएं भी हुए शामिल ग्रेटर नोएडा वेस्ट की पंचशील ग्रीन्स-2 हाउसिंग सोसाइटी के निवासियों ने आज तीसरे रविवार को फिर बिल्डर के लचर रवैया, मेंटेनेंस, प्रीपेड बिजली मुद्दा और अच्छी इंटरनेट की सुविधा ना मिलने के कारण बारिश के बीच में सोसाइटी के अंदर प्रदर्शन करने के लिए मजबूर है। निवासियों के द्वारा पिछले कुछ दिनों से लगातार पंचशील मैनेजमेंट से मीटिंग करने के लिए प्रयास किया जा रहा था, परंतु बिल्डर इस बात पर अड़ा है कि जब तक निवासी बकाया रकम नहीं देंगे। तब तक वह मीटिंग करने को नहीं आएगा। 

एसीपी के सामने हुई बैठक, फिर भी बिल्डर बना रहा दवाब
मेंटेनेंस शुल्क जमा करने के मुद्दे पर निवासियों का कहना है कि इसी साल मार्च महीने में बिसरख थाने में एसीपी नोएडा सेंट्रल-2 योगेंद्र सिंह, बिल्डर और निवासियों के बीच में एक सहमति पत्र बनी थी। जिसमें बिल्डर ने पेंडिंग काम को तय समय सीमा के अंदर खत्म करने का आश्वासन दिया था। परंतु कोई भी कार्य अब तक पूरा नहीं हो सका और उसके बाद भी बिल्डर पैसे जमा करने का दबाव बना रहा है। 

इंटरनेट सर्विस बदहाल
निवासियों का आरोप है की बिल्डर अपनी कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए खुद का इंटरनेट सर्विस दे रहा है, जिसकी बहुत ही खराब स्थिति रहती है। ऑनलाइन क्लास और Work-From-Home में आए दिन इंटरनेट डाउन रहता है। जिससे लोगों के कामकाज और बच्चों का स्कूल प्रभावित हो रहा है। वहीं एयरटेल या जिओ जैसी सेवा प्रदाता कंपनी जो कि सोसाइटी में इंटरनेट सेवा देने को इच्छुक हैं, उन्हें बिल्डर रोक रखा है।

हर साल लाखों की अवैध उगाही करना चाहता है बिल्डर 
प्रीपेड बिजली के मुद्दे पर भी लोग काफी परेशान हैं। क्योंकि जब से नया प्रीपेड सिस्टम आया है। लोगों के बिजली बिल में बेतहाशा वृद्धि हो गई है। वहीं ऐप शुल्क के रूप में प्रतिदिन 2 रुपए अलग से चार्ज लिया जा रहा है, जो साल का प्रति फ्लैट 720 रुपए होता है। लोगों का कहना है कि बिना कुछ किए हुए सिर्फ ऐप के नाम पर बिल्डर हर साल लाखों रुपया निवासियों से उगाही करेगा।

डायरेक्टर के जिला पंचायत अध्यक्ष बनने के बाद पुलिस-प्रशासन का रवैया बदला
आलोक कुमार और अन्य निवासियों का कहना है कि पंचशील ग्रुप के एक डायरेक्टर गौतमबुद्ध नगर जिला पंचायत अध्यक्ष चुन लिए गये हैं। जिसके बाद से पुलिस प्रशासन और स्थानीय जनप्रतिनिधियों का भी रवैया बदल गया है और कोई कुछ नहीं कर रहा है। आज के प्रदर्शन में महिला बुजुर्ग बच्चे और युवा सब लोगों का प्रतिनिधित्व था। मांग पूरी नहीं होने तक लोग आगे भी प्रदर्शन जारी रखेंगे।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.