स्कूल की बसों ने चिपियाना बुजुर्ग की सड़क का किया सत्यानाश, प्राधिकरण से भी नहीं मिल रही मदद

हाल-ए-ग्रेटर नोएडा वेस्ट : स्कूल की बसों ने चिपियाना बुजुर्ग की सड़क का किया सत्यानाश, प्राधिकरण से भी नहीं मिल रही मदद

स्कूल की बसों ने चिपियाना बुजुर्ग की सड़क का किया सत्यानाश, प्राधिकरण से भी नहीं मिल रही मदद

Tricity Today | स्कूल की बसों ने चिपियाना बुजुर्ग की सड़क का किया सत्यानाश

Greater Noida West : ग्रेटर नोएडा वेस्ट में एक स्कूल ने पूरे इलाके का सत्यानाश कर के रख दिया है। अंदाजा इस बात से लगा सकते हो कि स्कूल की बसें काफी महीनों से नाली को तोड़ रही है। जब इसकी शिकायत स्कूल के प्रबंधक से की गई तो उन्होंने कोई एक्शन नहीं लिया। जिसके बाद अब पीड़ितों ने इसकी शिकायत सोशल मीडिया के माध्यम से करना शुरू कर दिया है। पीड़ितों ने बताया कि इस मामले में वह ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी भी गए हैं, लेकिन वहां से भी उनको खाली हाथ लौटना पड़ा। अब लोगों ने जिला पंचायत अध्यक्ष और दादरी विधायक से मदद की गुहार लगाई है। क्या है पूरा मामला
चिपियाना बुजुर्ग में रहने वाले अलोक सिंह का कहना है कि डॉल्फिन स्कूल के बिल्कुल बराबर में खाली जगह पड़ी हुई है। वहां पर स्कूल प्रबंधक अपनी बसें खड़ी करवाता है। अलोक का कहना है कि इसमें उनको कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन सबसे बड़ी समस्या यह है कि स्कूल की बसों ने नाली तोड़ दी है। जिसकी वजह से नाली का पानी सड़क पर आ जाता है और लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। करीब 5 दिनों पहले ही एक स्कूटी सड़क पर पानी भरा होने की वजह से एक गड्ढे में गिर गई थी, जिसमें महिला के सिर और पैर में गंभीर चोट आई थी। इसके अलावा काफी हादसे चिपयाना बुजुर्ग हो चुके हैं। काफी बार इसकी शिकायत स्कूल के प्रिंसिपल की गई है, लेकिन कोई भी एक्शन नहीं लिया गया।

अफसरों ने तीन दिनों तक घुमाया, लेकिन फिर भी नहीं मिली मदद 
अलोक का कहना है कि वह अपने इलाके के निवासियों के साथ इस मामले को लेकर ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी गए। अधिकारियों ने 3 दिनों तक दफ्तर के चक्कर कटवाए, उसके बावजूद भी कोई भी एक्शन नहीं लिया है। उनके मुताबिक प्राधिकरण के अधिकारियों का कहना है कि चिपयाना बुजुर्ग उनके क्षेत्र अंतर्गत नहीं आता है, इसलिए वह उनकी मदद नहीं कर सकते। पीड़ित का कहना है कि अब वह दादरी के विधायक तेजपाल नागर और जिला पंचायत अध्यक्ष अमित चौधरी से मदद की गुहार लगाई है।

Copyright © 2022 - 2023 Tricity. All Rights Reserved.