ज्यादा रुपए देखकर नौकर को आ गया लालच, रची 55 लाख लूट की फर्जी कहानी

ग्रेटर नोएडा : ज्यादा रुपए देखकर नौकर को आ गया लालच, रची 55 लाख लूट की फर्जी कहानी

ज्यादा रुपए देखकर नौकर को आ गया लालच, रची 55 लाख लूट की फर्जी कहानी

Tricity Today | 55 लाख की लू़ट के आरोपीयों को पुलिस ने गिरफ्तार किया

ज्यादा रुपए देखकर नौकर को आ गया लालच, रची 55 लाख लूट की फर्जी कहानी
  • - पुलिस ने किया फ़र्ज़ी लूट का खुलासा
Greater Noida :  ग्रेटर नोएडा में रहने वाले एक व्यापारी ने अपने नौकर से दिल्ली में किसी परिचित को 55 लाख रुपये देने के लिए मंगलवार शाम भेजा था। जिस व्यक्ति को रुपये दिये जाने  थे , वह नहीं मिला जिस पर नौकर रुपये वापस लेकर लौट रहा था। अधिक रुपये देखकर उसके मन में लालच आ गया और उसने मंगलवार शाम पुलिस को  लूट की फर्जी सूचना दे दी। सीसीटीवी फुटेज और अन्य माध्यम से पुलिस ने जब मामले की जांच शुरू की तो सारी सच्चाई सामने आ गई। घटना की सूचना देने वाला ही आरोपी  निकला। पुलिस ने आरोपी नौकर और उसके भाई समेत कुल 3 लोगों को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा कर दिया है। 

जानकारी के मुताबिक ग्रेटर नोएडा के सेक्टर Pi-4 में व्यापारी विष्णु गुप्ता रहते हैं। उनका नौकर राजेश काफी दिनों से उनके पास काम कर रहा है। मंगलवार शाम दिल्ली में स्थित अपने एक परिचित को विष्णु गुप्ता ने 55 लाख रुपये राजेश के माध्यम से देने के लिए भेजे थे। दिल्ली पहुंचने पर जिसे रुपये दिए जाने थे, वहां पर व्यक्ति नहीं मिला। इस पर नौकर राजेश 55 लाख रुपये लेकर वापस ग्रेटर नोएडा लौट रहा था। नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर एडवांट टावर के पास पहुंचने पर रात 9:21 पर राजेश ने 112 पर सूचना दी कि कुछ लोगों ने उसे बंधक बनाकर उससे 55 लाख रुपये लूट लिए हैं।  इस पर कोतवाली सूरजपुर पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज और अन्य माध्यमों से मामले की जांच शुरू की। जांच के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि लूट की सूचना फ़र्ज़ी है। इस पर पुलिस ने व्यापारी के नौकर राजेश, उसके भाई अमित और राजेश के दोस्त रकम सिंह उर्फ रॉकी को गिरफ्तार कर 55 लाख रुपये बरामद कर लिये हैं। 

पुलिस ने बताया कि पूछताछ में राजेश ने बताया कि बड़ी रकम देखकर उसे लालच आ गया था जिसके चलते उसने अपने भाई और दोस्त के साथ मिलकर लूट की फर्जी कहानी बनाई और इसकी सूचना पुलिस को दे दी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.