ट्रांसपोर्टर के 6 हत्यारों को उम्रकैद, जुलाई 2016 में हुई थी खौफनाक वारदात

गुरुग्राम से बड़ी खबर : ट्रांसपोर्टर के 6 हत्यारों को उम्रकैद, जुलाई 2016 में हुई थी खौफनाक वारदात

ट्रांसपोर्टर के 6 हत्यारों को उम्रकैद, जुलाई 2016 में हुई थी खौफनाक वारदात

Tricity Today | कोटगांव निवासी ट्रांसपोर्टर की हत्या

ट्रांसपोर्टर के 6 हत्यारों को उम्रकैद, जुलाई 2016 में हुई थी खौफनाक वारदात Gurugram : सवा छह साल पहले नगर कोतवाली के कोटगांव निवासी ट्रांसपोर्टर की हत्या में अदालत ने छह हत्यारों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। दस लाख रुपये के लेनदेन के विवाद में ट्रांसपोर्टर के दोस्त ने साथियों के साथ मिलकर हत्याकांड को अंजाम दिया था। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट संख्या-7 नेत्रपाल सिंह की अदालत ने फैसला सुनाते हुए प्रत्येक हत्यारे पर 33 हजार रुपये का अर्थदंड भी डाला है।

पैसों को लेकर बिगड़ा मामला 
जिला सहायक शासकीय अधिवक्ता श्याम सिंह नागर ने बताया कि नगर कोतवाली क्षेत्र के कोटगांव निवासी देवेंद्र कुमार ने चार जुलाई 2016 को रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उनका कहना था कि उनका बेटा विकास कुमार ट्रांसपोर्ट का कारोबार करता था। काम के दौरान ही विकास की दोस्ती नीरज शर्मा से हो गई थी। घटना से करीब चार साल पहले नीरज ने पत्नी को पार्षद का चुनाव लड़ाने की बात कहते हुए दस लाख रुपये उधार मांगे। दोस्ती के नाते उनके बेटे ने नीरज को पैसे दे दिए। काफी समय बाद उनके बेटे ने रुपयों को तगादा किया तो नीरज शर्मा आनाकानी करने लगा।

तीन जुलाई 2016 की घटना
देवेंद्र कुमार के मुताबिक तीन जुलाई 2016 की रात करीब साढ़े 11 बजे उनका बेटा विकास दोस्तों के साथ जीटी रोड से घर लौट रहा था। रास्ते में नीरज शर्मा और उसके साथियों ने विकास पर चाकू-छुरों से उस पर हमला बोल दिया। गंभीर रूप से घायल विकास को उसके साथियों ने यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने घटना के संबंध में नीरज शर्मा और उसके साथियों नीरज उर्फ छिद्दा, पंकज उर्फ काली, विनोद कुमार, विशाल उर्फ पप्पू और बिट्टू उर्फ विनय कुमार के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया था।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.