अजीत सिंह हत्याकांड : पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर 25 हजार का इनाम घोषित, अवैध संपत्तियों पर चल सकता है बुलडोजर

पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर 25 हजार का इनाम घोषित, अवैध संपत्तियों पर चल सकता है बुलडोजर

Tricity Today | पूर्व सांसद धनंजय सिंह

अजीत हत्याकांड मामले में पूर्व बाहुबली सांसद धनजय सिंह की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। बीते दिनों सीजेएम लखनऊ की कोर्ट ने धनंजय सिंह पर गैर जमानती वारंट जारी करते हुए लखनऊ पुलिस को धनजय सिंह को गिरफ्तार कर कोर्ट में हाजिर करने का आदेश दिया था। इसी के चलते लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट ने धनंजय पर 25 हजार का इनाम घोषित कर दिया है। 

गिरफ्तरी के लिए ठिकानों पर हो रही छापेमारी
पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर लखनऊ पुलिस शिकंजा कसते हुए जगह-जगह छापेमारी कर रही है। लेकिन उसके बाद भी अभी तक धनंजय सिंह का कुछ पता नही चल सका जिसके बाद गुरुवार को लखनऊ पुलिस ने विभूति खंड थाने से वांछित चल रहे धनंजय सिंह पर 25 हजार का इनाम घोषित कर दिया है। बीती 6 जनवरी को विभूति खंड थाना क्षेत्र में अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इसी मामले में पुलिस ने धनंजय सिंह को हत्या कराने के मामले में आरोपी बनाया था जिसके चलते उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। 

अवैध संपत्तियां की गईं चिन्हित
धनंजय सिंह को पकड़ने के लिए कमिश्नरेट पुलिस ने गुडंबा, सुल्तानपुर रोड स्थित सूर्य अपार्टमनेंट सहित कई ठिकानों पर छापेमारी की है। धनंजय सिंह द्वारा अवैध पैसों से एकत्रित की गई संपत्तियों का ब्यौरा जिसमें 6 फ्लैट व मकान 2 फार्म हाउस गोमतीनगर में लैब कई अवैध कंपनिया दिल्ली जौनपुर वाराणसी मऊ फतेहगढ़ बाराबंकी में पेट्रोल पंप की जानकारी लखनऊ पुलिस ने शासन को दी है। धनंजय की संपत्तियों पर बुलडोजर चल सकता है। 

बढ़ाई जा सकती इनाम राशि
बीती 6 जनवरी को हुए अजीत हत्याकांड मामले में विभूतिखंड कोतवाली में आईपीसी की 302, 307, 120(B),34, 212, 176 धारा के तहत मुकदमा दर्ज है। इसी मामले में धनंजय सिंह पुत्र राजदेव सिंह निवास स्वास्तिका सिटी अहिमामऊ थाना सुशांत गोल्फ सिटी लखनऊ मूल पता ग्राम बनसफा थाना सिकरारा जिला जौनपुर को हत्या की साजिश रचने का आरोपी बनाया गया है। डीसीपी पूर्वी संजीव सुमन के निर्देश पर धनजय सिंह पर इनाम घोषित किया गया है। माना जा रहा है अगर धनंजय जल्द ही पकड़ा नहीं जाता है तो इनाम की राशि बढ़ाई भी जा सकती है। 

शूटर गिरधारी ने लिया था धनंजय का नाम
गिरधारी ने रिमांड पर हुई पूछताछ के दौरान बताया कि उसने कुंटू सिंह के कहने पर हत्या की थी। उसने यह भी बताया था कि शूटरों की व्यवस्था कराने में पूर्व सांसद ने मदद की थी। अजीत हत्याकांड के दौरान घायल हुए शूटर का इलाज करने वाले डॉक्टर ने भी धनंजय सिंह का नाम लिया था। उनका कहना था कि शूटर के इलाज के लिए धनंजय का फ़ोन आया था। 

पुलिस एनकाउंटर में मारा गया था शूटर गिरधारी
बीते 15 जनवरी को लखनऊ पुलिस गिरधारी खरगापुर इलाके में हत्या में प्रयुक्त असलहे की तलाश के लिए लेकर पहुंची थी। इसी दौरान गिरधारी ने असलहा छीनकर भागने का प्रयास किया और फिर मुठभेड़ में मारा गया था। गिरधारी को पूर्व में दिल्ली पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद यूपी लाया गया था। दिल्ली पुलिस के आउटर नॉर्थ जिले की स्पेशल स्टाफ पुलिस ने रोहिणी इलाके से आरोपी शूटर गिरधारी को पकड़ा था। इसके बाद गिरधारी को कानूनी कार्रवाई पूरी करने के बाद दिल्ली से लखनऊ लाया गया था। 

ये था मामला
बीते दिनों राजधानी के विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे पर मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने बताया था कि गैंगवार के चलते ताबड़तोड़ फायरिंग की गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना में घायल अजीत सिंह और उसके साथी मोहर सिंह को लोहिया अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने अजीत सिंह को मृत घोषित कर दिया था।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.