अंसल एक्वापोलिस में फंसे खरीदारों ने बिल्डर के खिलाफ लड़ाई तेज करेंगे, कई फैसले लिए

Updated Jun 28, 2020 22:18:16 IST | Mayank Tawer

गाजियाबाद में अंसल बिल्डर के सुशांत एक्वापोलिस हाउसिंग प्रोजेक्ट में फंसे सैकड़ों लोग परेशान हाल हैं। करीब 10 साल...

अंसल एक्वापोलिस में फंसे खरीदारों ने बिल्डर के खिलाफ लड़ाई तेज करेंगे, कई फैसले लिए
Photo Credit:  Tricity Today
अंसल एक्वापोलिस में फंसे खरीदारों बिल्डर के खिलाफ लड़ाई तेज करेंगे
Key Highlights
अंसल बिल्डर के प्रोजेक्ट में फ्लैट खरीद कर एक दशक से फंसे हैं सैकड़ों खरीदार
रविवार को फ्लैट खरीदारों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक का आयोजन किया
खरीदारों ने जानकारी दी- यूपी रेरा के आदेशों का उल्लंघन कर रहा है बिल्डर

गाजियाबाद में अंसल बिल्डर के सुशांत एक्वापोलिस हाउसिंग प्रोजेक्ट में फंसे सैकड़ों लोग परेशान हाल हैं। करीब 10 साल से घर का इंतजार कर रहे खरीदार अब आर-पार की लड़ाई लड़ने के मूड में आ गए हैं। खरीदारों ने रविवार को एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की। जिसमें फैसला लिया गया कि बिल्डर के खिलाफ लड़ाई तेज की जाएगी। वह अदालतों और प्रशासनिक अधिकारियों के आदेशों का पालन नहीं कर रहा है। इस मुद्दे को जोर-शोर से उठाया जाएगा।

रविवार की दोपहर 12 बजे से एक्वापोलिस सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी ने वर्चुअल मीटिंग का आयोजन किया। गाजियाबाद में डूंडाहेड़ा गांव के पास अंसल बिल्डर ने करीब 10 साल पहले अंसल सुशांत एक्वापोलिस हाउसिंग सोसाइटी लांच की थी। जिसमें घर लेने के लिए सैकड़ों की संख्या में खरीदार फंसे हुए हैं। प्राजेक्ट में फंसे फ़्लैट ख़रीदारों ने इस वर्चुअल मीटिंग का आयोजन किया। लोगों ने बिल्डर से छुटकारा पाने और अपना घर हासिल करने की योजना पर विचार किया है।

सभी लोग पिछले 10 सालों से अपने खून पसीने की मेहनत की कमाई से खरीदे हुए आशियाने की बाट देख रहे हैं। समस्याओं पर चर्चा की। साथ ही ख़रीदारों की शिकायतों का निवारण और ब्याज सहित धन वापसी के लिए यूपी रेरा और ज़िलाधिकारी ग़ाज़ियाबाद के प्रयासों पर चर्चा की गई है। ग्रुप के 25 सदस्यों ने इस मीटिंग में हिस्सा लिया। 

एसोसिएशन ने सदस्यों को हालात की जानकारी दी
मीटिंग का संचालन मनीष त्रिपाठी और योगेश त्यागी ने किया। आभार प्रकट जनरल सेक्रेटेरी आर पी सिंह ने किया। सोसाइटी के वरिष्ठ सलाहकार एसके शर्मा ने ग्रुप की गतिविधियों का ब्योरा दिया। सदस्यों के सवालों के जवाब भी दिए। आगे किये जाने वाले प्रयासों के विषय में विस्तार से चर्चा की गई है। अभी तक बिल्डर और रेरा की तरफ से कोई मदद नहीं मिली है। 

रेरा के आर्डर पर भी अमल नहीं कर रहा बिल्डर
एसके शर्मा ने बताया कि कई ऐसे ग्राहक भी हैं, जिनके पास रेरा कोर्ट का रिफंड आर्डर है। किंतु बिल्डर से कोई वसूली नहीं हो पाई है। बिल्डर रेरा के आर्डर को भी धता बता रहे हैं। रेरा, हाईकोर्ट, जिला प्रशासन और उत्तर प्रदेश सरकार के आदेशों का बिल्डर के ऊपर कोई असर नहीं पड़ रहा है। बिल्डर अधूरे पड़े प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए कुछ नहीं कर रहा है करीब 6 साल से खरीददार लगातार अपना पैसा वापस देने या घर देने की मांग कर रहे हैं।

Ansal builder, Ghaziabad, Ghaziabad News, Ghaziabad Buyers, UP Rera, Aquapolis Social Welfare Society, Greater Noida West, Greater Noida West News

Trending

नोएडा
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
उत्तर प्रदेश
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
ग्रेटर नोएडा
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
ग्रेटर नोएडा
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
यमुना सिटी
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका