जेवर एयरपोर्ट से जुड़ी बड़ी खबर, गौतमबुद्ध नगर और बुलन्दशहर समेत कई जिलों को फायदा मिलेगा

Updated Jun 29, 2020 10:54:51 IST | Anika Gupta

जेवर एयरपोर्ट से जुड़ी बड़ी खबर है। मेरठ से प्रयागराज तक बनाया जाने वाला गंगा एक्सप्रेसवे जेवर एयरपोर्ट से जोड़ा जाएगा। इसके लिए जेवर एयरपोर्ट....

जेवर एयरपोर्ट से जुड़ी बड़ी खबर, गौतमबुद्ध नगर और बुलन्दशहर समेत कई जिलों को फायदा मिलेगा
Photo Credit:  Tricity Today
Jewar Airport Latest News
Key Highlights
हापुड़ और बुलंदशहर से होकर गुजरने वाले गंगा एक्सप्रेस वे को ग्रेटर नोएडा से जोड़ा जाएगा
यमुना प्राधिकरण ने इस एक्सप्रेस वे की डीपीआर तैयार करवा ली है, नया इलाका विकसित होगा
इसके लिए जेवर एयरपोर्ट से बुलंदशहर तक एक सिक्स लेन कनेक्ट एक्सप्रेस वे बनेगा

जेवर एयरपोर्ट से जुड़ी बड़ी खबर है। मेरठ से प्रयागराज तक बनाया जाने वाला गंगा एक्सप्रेसवे जेवर एयरपोर्ट से जोड़ा जाएगा। इसके लिए जेवर एयरपोर्ट से गंगा एक्सप्रेस वे को जोड़ने के लिए कनेक्ट एक्सप्रेस वे बनाया जाएगा। जो बुलन्दशहर में जाकर गंगा एक्सप्रेस वे से जुड़ेगा। यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण ने इस प्रोजेक्ट की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करवा ली है। जल्दी सर्वे का काम शुरू होने वाला है।

गंगा एक्सप्रेस वे और जेवर एयरपोर्ट के सीधे आपस में जुड़ जाने से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के करीब एक दर्जन जिलों को कनेक्टिविटी मिलेगी। इसका सबसे बड़ा फायदा गौतम बुध नगर, हापुड़ और बुलंदशहर जिले को होगा। इन जिलों में कनेक्टिविटी के साथ ही रियल स्टेट एक्टिविटी भी तेजी के साथ बढ़ेंगी। इनके अलावा मेरठ, गाजियाबाद, अमरोहा, संभल, शाहजहांपुर, हरदोई, मुरादाबाद, उन्नाव, बरेली, प्रतापगढ़, रायबरेली और प्रयागराज भी सीधे जेवर एयरपोर्ट से कनेक्ट हो जाएंगे।

यमुना एक्सप्रेस वे बुलंदशहर में गतिविधियां तेज करेगा 
आपको बता दें कि बुलंदशहर जिले का बड़ा हिस्सा यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के अधिसूचित इलाके में आता है। अभी तक विकास प्राधिकरण की गतिविधियां गौतम बुध नगर, मथुरा और अलीगढ़ जिले में चल रही हैं। अब विकास प्राधिकरण बुलंदशहर तक काम शुरू करेगा। इसके लिए सबसे पहले जेवर एयरपोर्ट से गंगा एक्सप्रेस वे को जोड़ने वाले कनेक्ट एक्सप्रेस वे पर काम शुरू होगा। यह कनेक्ट एक्सप्रेस वे बुलंदशहर से भी होकर गुजरेगा। लिहाजा, एक्सप्रेस वे के दोनों और औद्योगिक और रियल स्टेट गतिविधियां तेजी से शुरू होंगी। इंडस्ट्री और रियल एस्टेट के लिए यह एकदम नया इलाका होगा।

सीएम योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट है गंगा एक्सप्रेस वे
गंगा एक्सप्रेस वे मेरठ, गाजियाबाद, बुलंदशहर, हापुड़, अमरोहा, संभल, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली और प्रतापगढ़ होते हुए प्रयागराज जिले में खत्म होगा। यह उत्तर प्रदेश सरकार की महत्वकांक्षी परियोजना है। जिस पर सीधे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नजर बनाए हुए हैं। योगी आदित्यनाथ ने 19 जून को गंगा एक्सप्रेस वे के लिए भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया शुरू करने का आदेश उत्तर प्रदेश एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) को दिया था। 

इस साल के आखिर में निर्माण शुरू करने की योजना है
मुख्यमंत्री ने गंगा एक्सप्रेस वे का निर्माण इस साल के आखिर में शुरू करने के लिए कहा है। गंगा एक्सप्रेस वे दूसरे चरण में इलाहाबाद से वाराणसी तक जाएगा। वाराणसी में बन रहे मल्टीमॉडल टर्मिनल से गंगा एक्सप्रेसवे जुड़ेगा। यह बलिया तक जाने वाले पूर्वांचल एक्सप्रेस वे को कनेक्ट करेगा। गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना को उत्तर प्रदेश सरकार की मंत्रिपरिषद ने मंजूरी दे दी है। इसकी डीपीआर भी तैयार कर ली गई है। यह 602 किलोमीटर लंबा होगा। हापुड़ के पास दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे से शुरू होकर प्रयागराज में नेशनल हाईवे-19 के बाईपास पर सोरांव तक जाएगा। 

इस परियोजना पर 37350 करोड रुपए खर्च होंगे
गंगा एक्सप्रेस वे सिक्स लाइन का होगा और भविष्य में आवश्यकता पड़ने पर इसे 8 लाइन का भी किया जा सकेगा। इस परियोजना पर उत्तर प्रदेश सरकार 37350 करोड रुपए खर्च करेगी। यह परियोजना पीपीपी मॉडल पर विकसित की जाएगी। सबसे पहले उत्तर प्रदेश सरकार प्रोजेक्ट के लिए पूरी जमीन का अधिग्रहण करेगी। इसके बाद ग्लोबल टेंडर के जरिए प्राइवेट पार्टनर को आमंत्रित किया जाएगा।

गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर और हापुड़ में इंडस्ट्री व रियल स्टेट को नया इलाका मिलेगा
जेवर एयरपोर्ट से बुलंदशहर में गंगा एक्सप्रेस वे तक बनाए जाने वाले कनेक्ट एक्सप्रेस वे से कई नए इलाके विकसित होंगे। खासतौर से हापुड़ और बुलंदशहर जिले को रियल एस्टेट व इंडस्ट्री सेक्टर से बड़ा फायदा होने की उम्मीद है। दरअसल, जिस इलाके से कनेक्ट एक्सप्रेस वे होकर गुजरेगा, वहां बड़े क्षेत्र में अभी कोई सीधी कनेक्टिविटी नहीं है। कनेक्ट एक्सप्रेस वे इस पूरे इलाके को एक प्राइम लोकेशन में तब्दील कर देगा।

जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने कहा, "यह एक महत्वकांक्षी परियोजना है। जिसका लाभ करीब 500 किलोमीटर के दायरे में तमाम शहरों और गांवों को मिलेगा। बुलन्दशहर, गौतम बुध नगर का पड़ोसी जिला होने के बावजूद अभी तक उद्योग और रियल स्टेट से अछूता है। गंगा एक्सप्रेस वे और जेवर एयरपोर्ट को जोड़ने के लिए बनने वाला नया एक्सप्रेस वे मेरी पड़ोसी विधानसभा क्षेत्र सिकंदराबाद को बड़ा फायदा पहुंचाएगा।"

सिकंदराबाद की विधायक बिमला सिंह सोलंकी का कहना है, "मैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बेहद आभारी हूं। मेरे विधानसभा क्षेत्र से गंगा एक्सप्रेस वे होकर गुजरेगा। गंगा एक्सप्रेस वे और जेवर एयरपोर्ट को जोड़ने वाला एक्सप्रेस वे भी सिकंदराबाद से होकर गुजरेगा। जिससे मेरे पूरे विधानसभा क्षेत्र में तमाम बड़ी विकास योजनाएं आएंगी।"

यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ अरुणवीर सिंह ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट को गंगा एक्सप्रेस वे से बुलंदशहर में जोड़ने के लिए एक सिक्स लेन कनेक्ट एक्सप्रेस वे बनाया जाएगा। इसकी डीपीआर बनकर तैयार हो गई है। जल्दी सर्वे शुरू हो जाएगा। इसके दोहरे फायदे होंगे। पहला फायदा गंगा एक्सप्रेस वे से जेवर एयरपोर्ट को सीधे कनेक्टिविटी मिल जाएगी। दूसरा बड़ा फायदा बुलंदशहर, हापुड़ और गौतम बुध नगर के एक बहुत बड़े इलाके में विकास के रास्ते खुल जाएंगे।

रियल एस्टेट कंपनियों की संस्था नरेडको और सुपरटेक के चेयरमैन आरके अरोड़ा का कहना है कि यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण ने यह बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले से कई छोटे इलाकों को बड़ा फायदा होगा, बल्कि प्राधिकरण के लिए भी यह टर्निंग प्वाइंट साबित हो सकता है। अभी तक प्राधिकरण जिन इलाकों तक पहुंच बनाने में परेशानी महसूस कर रहा था, अब वहां विकास योजनाएं ले जाने में बहुत आसानी हो जाएगी।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव और राज्यसभा के जनरल सेक्रेटरी रहे रिटायर्ड आईएएस अफसर योगेंद्र नारायण का कहना है, "जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट अपार संभावनाएं लेकर आया है। यह न केवल दिल्ली-एनसीआर और पश्चिम उत्तर प्रदेश बल्कि पूरे उत्तर भारत को बहुत बड़ा फायदा पहुंचाएगा। जेवर एयरपोर्ट से 500 किलोमीटर के दायरे में कनेक्टिविटी बहुत तेज हो जाएगी। बहुत सारे ऐसे इलाके सामने आएंगे, जहां अभी तक विकास योजनाएं पहुंच नहीं सकी हैं। जेवर एयरपोर्ट की बदौलत उन तमाम इलाकों में बड़े पैमाने पर औद्योगिक और रियल स्टेट गतिविधियां शुरू होंगी।

जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने कहा, "यह एक महत्वकांक्षी परियोजना है। जिसका लाभ करीब 500 किलोमीटर के दायरे में तमाम शहरों और गांवों को मिलेगा। बुलन्दशहर, गौतम बुध नगर का पड़ोसी जिला होने के बावजूद अभी तक उद्योग और रियल स्टेट से अछूता है। गंगा एक्सप्रेस वे और जेवर एयरपोर्ट को जोड़ने के लिए बनने वाला नया एक्सप्रेस वे मेरी पड़ोसी विधानसभा क्षेत्र सिकंदराबाद को बड़ा फायदा पहुंचाएगा।"

सिकंदराबाद की विधायक बिमला सिंह सोलंकी का कहना है, "मैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बेहद आभारी हूं। मेरे विधानसभा क्षेत्र से गंगा एक्सप्रेस वे होकर गुजरेगा। गंगा एक्सप्रेस वे और जेवर एयरपोर्ट को जोड़ने वाला एक्सप्रेस वे भी सिकंदराबाद से होकर गुजरेगा। जिससे मेरे पूरे विधानसभा क्षेत्र में तमाम बड़ी विकास योजनाएं आएंगी।"

Jewar Airport, Jewar Airport Latest News, Jewar Airport News, Gautam Buddh Nagar, Bulandshahr, Gautam Buddh Nagar News, Noida International Airport, Jewar International Airport Latest News