Mahatma Gandhi Jayanti: यूपी को नशा मुक्त बनाने के लिए बच्चों ने निकाला दांडी मार्च

Mahatma Gandhi Jayanti: यूपी को नशा मुक्त बनाने के लिए बच्चों ने निकाला दांडी मार्च

Tricity Today | गांधी जयंती पर यूपी को नशा मुक्त बनाने के लिए बच्चों ने निकाला दांडी मार्च

नशे की गिरफ्त में पूरा उत्तर प्रदेश आता जा रहा है। खासकर गाजियाबाद की हालत और दयनीय बनी हुई है। अनेक जगहों पर अवैध रूप से कच्ची शराब बनाई और बेची जा रही है। इससे युवाओं का जीवन चौपट हो रहा है। जो इस क्षेत्र के विकास में अपना योगदान दे सकते थे। वे नशे की हालत में बेकार हो रहे हैं। नशे पर यदि प्रतिबंध नहीं लगाया गया तो गाजियाबाद राष्ट्र निर्माण में अपना वह योगदान देने से चूक सकता है, जो इतिहास बन सके। यह बातें गुरूवार को गांंधी जंयती की पूर्व संध्या पर नशे के प्रति बच्चो को जागरूक करते हुए भागीरथ सेवा संस्थान के निदेशक अमिताभ शुकुल ने कही है। 

उन्होने बताया नशा मुक्त भारत अभियान के तहत जिला प्रशासन, समाज कल्याण विभाग और भागीरथ सेवा संस्थान द्वारा जिले में जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इसी अभियान के तहत गुरूवार से 7 अक्टूबर तक नशा-मुक्ति सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें पूरे सप्ताह विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम पूरे जनपद में अयोजित किये जायेंगे। 

पूर्व नियोजित कार्यक्रम के अनुसार गुरूवार शाम बच्चों द्वारा सांकेतिक रूप से दांडी मार्च किया गया। यह विशेष सांकेतिक मार्च शहर के विभिन्न इलाकों से होता हुआ संजयनगर स्थित स्कल्पचर पार्क के सामने खत्म हुआ। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखते हुए जिला विकलांगजन कल्याण अधिकारी डॉ रजनीश पांडेय और जिला समाज कल्याण अधिकारी एसके व्यास ने हरी झंडी दिखाया बच्चो को भागीरथ स्कूल के प्रांगण से रवाना किया। जिला विकलांगजन कल्याण अधिकारी रजनीश पांडे ने कहा कि जिस तरीके से महात्मा गांधी ने नशे के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी उसी प्रकार हम आज नशे के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं और समाज को नशे से मुक्ति के लिए संकल्प लेते हैं। 

उसी उद्देश्य से महात्मा गांधी के पद चिन्हों पर चलते हुए बच्चों द्वारा सांकेतिक रूप से दांडी मार्च निकाला गया है। समाज कल्याण अधिकारी एसके व्यास ने कहा कि नशा मुक्त भारत अभियान भारत सरकार की तरफ से देश के 272 जिलों में चलाया जा रहा है, जिनमें गाजियाबाद भी एक है। गाजियाबाद में विभिन्न कार्यक्रमों के जरिए नशे के खिलाफ जागरूकता के लिए जगह-जगह कार्यक्रम किए जा रहे हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.