यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे चार औद्योगिक शहर बसेंगे, जानिए कहां-कहां पर

Updated Jul 03, 2020 11:39:47 IST | Anika Gupta

जनपद के तीनों प्राधिकरण औद्योगिक हैं, लेकिन यहां पर ग्रुप हाउसिंग को प्राथमिकता दी गई। अब यमुना प्राधिकरण ने उद्योगों को प्राथमिकता पर ले लिया है। प्राधिकरण यमुना एक्सप्रेस...

यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे चार औद्योगिक शहर बसेंगे, जानिए कहां-कहां पर
Photo Credit:  Google Image
Yamuna Expressway

जनपद के तीनों प्राधिकरण औद्योगिक हैं, लेकिन यहां पर ग्रुप हाउसिंग को प्राथमिकता दी गई। अब यमुना प्राधिकरण ने उद्योगों को प्राथमिकता पर ले लिया है। प्राधिकरण यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे चार औद्योगिक शहर बसाएगा। पहले चरण में जेवर के पास जमीन का आवंटन चल रहा है। इन्हीं औद्योगिक शहरों को बसाने के लिए प्राधिकरण ने अपनी 2041 महायोजना में कुल जमीन का 40 प्रतिशत उद्योगों के लिए आरक्षित करने जा रहा है। ताकि औद्योगिक प्राधिकरण की परिकल्पना को साकार किया जा सके।

यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे यमुना प्राधिकरण का क्षेत्र गौतमबुद्ध नगर से आगरा तक आता है। अपने क्षेत्र में प्राधिकरण औद्योगिक शहर बसाने की तैयारी की है। गौतमबुद्ध नगर से आगरा तक चार औद्योगिक शहर बसाए जाएंगे। करीब 32 हजार हेक्टेयर जमीन पर ये चारों शहर बसाए जाएंगे। यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बुधवार को शहर में आए औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना को इस योजना से अवगत कराया। सीईओ ने बताया कि उद्योगों के लिए 40 प्रतिशत जमीन आरक्षित करने की तैयारी है। महायोजना 2041 में इसे शामिल किया जा रहा है। पहले चरण के औद्योगिक शहर को यमुना प्राधिकरण जेवर आसपास के क्षेत्र बसाएगा। यहां पर इलेक्ट्रानिक्स सिटी, अपैरल पार्क, हैंडीक्राफ्ट पार्क, एमएसएमई पार्क, टॉय सिटी समेत तमाम कलस्टर बसाने की योजना चल रही है। यहां पर जमीन आवंटन भी शुरू हो गया है। अपैरल पार्क, हैंडीक्राफ्ट पार्क, एमएसएमई पार्क में 8150 करोड़ रुपये का निवेश होने की उम्मीद है। इसमें करीब 7 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। ट‘वाय सिटी में 80 यूनिट लगाने का प्रस्ताव मिला है। इसे 100 एकड़ में बसाने की तैयारी है। यहां पर 45 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। प्राधिकरण ने अप्रैल से जून तक 22 औद्योगिक भूखंडों का आवंटन किया है। इसमें करीब 1700 करोड़ रुपये का निवेश होगा। साथ ही 40 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा।  

यहां बसेंगे शहर

  1. पहला औद्योगिक शहर बसाने के लिए जेवर इलाके में जमीनों का आवंटन शुरू किया गया है। यहां 1400 हेक्टेयर जमीन पर इलेक्ट्रॉनिक सिटी, लॉजिस्टिक हब और एविएिशन हब से संबंधित उद्योगों के लिए आरक्षित की गई है। यूपी सरकार ने इसका मास्टर प्लान पास कर दिया है। इसके बाद प्राधिकरण ने एनसीआर प्लानिंग बोर्ड यह प्रस्ताव भेज दिया है।
  2. यमुना प्राधिकरण दूसरा औद्योगिक शहर अलीगढ़ के पास बनाएगा। प्राधिकरण ने इसका नाम टप्पल-बाजना अर्बन सेंटर दिया है। इसके लिए 11004  हेक्टेयर जमीन आरक्षित की गई है। प्रदेश सरकार ने इसके मास्टर प्लान पर मुहर लगा दी है। अफसरों के मुताबिक, यहां 16.2 प्रतिशत क्षेत्र में उद्योग और 14.5 प्रतिशत जमीन मिश्रित भू उपयोग के लिए आरक्षित की गई है।
  3. मथुरा जिले में राया को केंद्र बनाया जाएगा। यहां पर प्राधिकरण तीसरा औद्योगिक शहर बसाएगा। इसके लिए 9366 हेक्टेयर जमीन तय की गई है। इसमें 20 प्रतिशत से अधिक जमीन उद्योगों के लिए होगी। जबकि 2.5 प्रतिशत जमीन का उपयोग मिश्रित रूप से हो सकेगा। यहां वृंदावन हेरीटेज सिटी भी बसाने की योजना है। प्राधिकरण के इस प्लान पर प्रदेश सरकार ने मुहर लगा दी है।
  4. प्राधिकरण यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे आगरा जिले में चौथी टाउनशिप बसाएगा। इसके मास्टर प्लान पर यमुना प्राधिकरण ने काम शुरू कर दिया है। यहां 12 हजार हेक्टेयर जमीन पर औद्योगिक शहर बसाने की तैयारी है। मास्टर प्लान बनने के बाद इसे प्रदेश सरकार को भेजा जाएगा।
Industrial Cities in Yamuna City, Yamuna Expressway, Yamuna Authority, Yamuna City, Yamuna Authority News, Dr Arunvir Singh IAS, Yamuna Authority CEO Dr Arunvir Singh