लॉकडाउन में जर्मनी के युवा कोरोना पार्टी कर रहे थे और अमेरिका में बीच पार्टी, अब भारतीय उसी रास्ते पर

Updated Mar 24, 2020 12:00:11 IST | Tricity Reporter

भारत के लोग लॉकडाउन का मजाक उड़ा रहे हैं। रविवार को जनता कर्फ्यू के दौरान गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में लोग शाम को 5 बजते ही सड़कों पर आ गए। जुलूस निकलकर थाली, घंटी और शंख बजाने लगे। कुछ जगहों पर तिरंगा भी फहराया...

Photo Credit:  Tricity Today
प्रतीकात्मक फोटो

भारत के लोग लॉकडाउन का मजाक उड़ा रहे हैं। रविवार को जनता कर्फ्यू के दौरान गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में लोग शाम को 5 बजते ही सड़कों पर आ गए। जुलूस निकलकर थाली, घंटी और शंख बजाने लगे। कुछ जगहों पर तिरंगा भी फहराया गया। यह वक्त सोशल डिस्टेंसिंग का है। सोमवार को देश के जिन जिलों में लॉकडाउन घोषित किया गया, वहां बाजार में भीड़ घूमती रही और खरीदारी करते रहे।

कई जिलों में लॉकडाउन बेअसर दिख रहा है। भारत में लोग कोरोना वायरस और लॉक डाउन को बहुत हल्के में ले रहे हैं। लोग अपनी ही नहीं दूसरों की जान भी खतरे में डाल रहे हैं। इससे पहले ऐसा यूरोप के कई देशों में देखने में आया था। वहां की जनता ने लॉक डाउन का मजाक बनाया था। अब वे इसका खामियाजा भुगत रहे हैं। 

जर्मनी में जब कोरोना वायरस शुरू हुआ तो वहां युवाओं ने कई जगहों पर कोरोना पार्टियां की थीं। कइयों ने बुजुर्गों पर जान बूझकर खांसा भी था। कोरोना का मीम बना रहे थे। लोगों पर कमेंट कर रहे थे। जर्मनी के दक्षिणी प्रांत बावेरिया के प्रेसिडेंट मार्कस जोएडर का कहना है कि यहां अब भी कोरोना पार्टियां हो रही हैं। कई युवा बुजुर्गों का मजाक बना रहे हैं, वे कोरोना-कोरोना भी चिल्ला रहे हैं। यहां ऐसे बहुत सारे ग्रुप हैं।

इसके बाद जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने दो से ज्यादा लोगों के एक साथ खड़े होने पर प्रतिबंध लगा दिया, चाहे वे एक ही परिवार के क्यों न हों। चांसलर मर्केल ने भी खुद को आइसोलेट कर लिया है। मर्केल एक कोरोना से संक्रमित डॉक्टर के संपर्क में आ गई थीं। हालांकि, कुछ दिन पहले मर्केल भी बर्लिन के एक सुपर मार्केट में खरीदारी करते दिखाई दी थीं। उनकी ट्रॉली में वाइन और टॉयलेट पेपर रखा हुआ था। 

फ्रांस में लॉकडाउन है। इसके बावजूद काइट सर्फर, छात्र और अन्य लोग मस्ती करने बीच पर निकल रहे थे। वायरस को फैलने से रोकने के लिए वह न तो लॉकडाउन को मान रहे थे और न ही डॉक्टरों की सलाह मान रहे थे। ऐसे में अधिकारियों को उनके खिलाफ कदम उठाने पड़े हैं। फ्रांस के गृह मंत्री क्रिस्टॉफ कैस्टानेर ने कहा कि कुछ लोग नियमों को तोड़कर खुद को हीरो समझते हैं, जबकि ऐसा नहीं है। ये लोग मूर्ख हैं। ये खुद और अपनों लिए ही खतरा बन रहे हैं। बड़ी संख्या में लोग पार्टी और क्लबों में भी जा रहे थे। सरकार ने कहा कि शहर के लोगों की इन हरकतों से कोरोना वायरस ग्रामीण इलाकों और समुद्री बीच पर पहुंच सकता है, जहां उसे रोकना मुश्किल होगा। क्योंकि इन इलाकों में स्वास्थ्य सेवाएं ज्यादा बेहतर नहीं हैं। 

पेरिस में सीन नदी के किनारे टहलने पर रोक लगा दी गई है। वहीं, बीचों के शहर नीस में रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है। फ्रांस में सड़कों पर अब पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं, जो लोगों के घरों से निकलने पर रोक लगा रहे हैं। जो लोग लॉकडाउन को तोड़ रहे हैं, उन पर जुर्माना लगाया जा रहा है। कुल 17 हजार पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं। राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने लॉकडाउन को 15 दिन बढ़ाने का ऐलान किया है।

फ्लोरिडा के गवर्नर ने सभी बीचों को बंद कर दिया है। पिछले दिनों यहां बीच पर छात्रों ने पार्टी की थी। डांस भी किया था। जबकि सरकार ने लोगों को बीचों पर जाने से मना किया था। न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्युमो ने शनिवार को कहा कि उनके राज्य में जितने भी कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं, उनमें आधे से ज्यादा 18 से 49 साल की उम्र के बीच हैं। युवाओं को चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा कि आप कोई सुपरमैन या फिर सुपरवूमन नहीं हैं, जो कोरोना आपको नहीं हो सकता। न्यूयॉर्क के सिटी पार्कों में लोग एक-दूसरे से दूरी बनाए रखने के नियम का पालन नहीं कर रहे थे। इसके बाद यहां भी रविवार रात से लोगों के मिलने-जुलने और जमा होने पर रोक लगा दी गई है।

कोरोना वायरस को हल्के में लेना इटली को भारी पड़ गया है। यहां सरकार ने 10 मार्च को लॉकडाउन घोषित किया था। लेकिन इसका कड़ाई से पालन नहीं कराया गया। लॉकडाउन के बावूजद इटली के कई शहरों में लोग शॉपिंग करते रहे, रेस्टोरेंट्स में खाना खाते रहे, बार और क्लब में लेटनाइट पार्टी करते रहे, मार्केट में घूमते रहे। इसके चलते इटली सरकार ने अब देश भर में आर्मी तैनात कर दी है, ताकि लोग घरों से बाहर न निकल सकें। इटली के लोम्बार्डी में भी लॉकडाउन का कड़ाई से पालन नहीं हुआ। यहां पहले राज्य सरकार ने खुद भी इसमें ढील बरतने को लेकर सहमति दी थी, लेकिन अब लोम्बार्डी क्षेत्र के प्रेसीडेंट ने कहा है कि आर्मी के इस्तेमाल से लोगों को जबरदस्ती घर में कैद करने में मदद मिलेगी।

स्पेन में पुलिस हेलिकॉप्टर की मदद से ऐसे लोगों को पकड़ रही है, जो बाहर जाकर लोगों से मिल रहे हैं। पुलिसकर्मी लोगों को हिदायत भी दे रहे हैं। कैटेलोनिया में एक महिला को उस वक्त पुलिस ने गिरफ्तार किया, जब वह एक मित्र से मिलने के लिए जा रही थी। उसने पुलिस को बताया कि उसकी दोस्ती डेटिंग ऐप के जरिए हुई थी। पुलिस चीफ कमिश्नर जोस एंजेल गोंजालेज कहते हैं कि जो लोग लॉकडाउन को तोड़ रहे हैं। यह गैर जिम्मेदाराना हरकत भाईचारे के खिलाफ है। अब लॉकडाउन तोड़ने वाले लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर रही है और जुर्माना भी वसूल रही है।