गाजियाबाद में दूध और सब्जी पर भारी पड़ी शराब, डीएम के फैसले पर उठे सवाल

गाजियाबाद में दूध और सब्जी पर भारी पड़ी शराब, डीएम के फैसले पर उठे सवाल

Tricity Today | गाजियाबाद के जिलाधिकारी डॉ अजय शंकर पांडेय

एक जून से अनलॉक 1.0 चल रहा है। जिसके बाद ज्यादातर गतिविधियां शुरू कर दी गई हैं। बाजार, व्यापार, उद्योग-धंधे और सरकारी गैर-सरकारी कार्यालय शुरू हो गए हैं। ऐसे में जिला स्तर पर भी प्रशासन ने अपनी ओर से गाइडलाइंस जारी की हैं। 

गाजियाबाद के जिलाधिकारी डॉ अजय शंकर पांडेय ने बाजारों के खुलने और बंद होने की समय सारणी जारी की है। जिसमें दूध, फल, सब्जी, किराना और शराब की दुकानों के खुलने और बंद होने का समय भी निर्धारित किया गया है। इसमें जहां घरेलू सामान फल और सब्जी की दुकानों के खुलने का समय कम है। वहीं, शराब की दुकानों को देर रात तक खोला जा सकेगा। इस फैसले से गाजियाबाद जिले के लोग नाइत्तेफाकी रख रहे हैं। सवाल उठा रहे हैं।

गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने अनलॉक 1.0 में सब्जियों और दूध की दुकानों को खोलने के लिए शाम तक का समय निर्धारित किया है। लेकिन शराब की दुकानों को सुबह से लेकर रात तक खोला जा सकता है। 

डीएम अजय शंकर पाण्डेय के आदेश में कहा गया है कि फल और सब्जियों की दुकान सुबह 6 बजे से दोपहर 2 बजे तक ही लगेंगी। वहीं, किराना की दुकानों का समय सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक का तय किया गया है। वहीं, शराब की दुकानों को सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक खुलने की अनुमति है।

राज नगर एक्सटेंशन में वीवीआइपी हाउसिंग सोसायटी के निवासी ऋषि राज त्यागी का कहना है कि यह आदेश समझ से परे है। यह फैसला सामाजिक और व्यवहारिक तौर पर गलत है। यह सोचना चाहिए कि ज्यादा लोग सब्जी खरीदने वाले हैं या शराब खरीदने वाले हैं। हर घर और परिवार को सब्जी की जरूरत है। परिवार में अगर 5 सदस्य हैं तो पांचों सदस्यों को सब्जी की और जरूरत है।

ऋषि राज कहते हैं, शराब की परिवार में एक आदमी को आवश्यकता है। ऐसे में अगर शराब की दुकानों के खुलने का समय घंटे 2-3 घंटे ही रखा जाता तो ज्यादा बेहतर होता। सब्जी फलों और दूध की दुकानों को कम से कम 16 घंटे खोला जाना चाहिए। अब कम समय ये दुकान खोली जाएंगी तो ज्यादा भीड़ दुकानों के सामने लगेगी। जिससे सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं हो पाएगा।

वसुंधरा सेक्टर-,1 में रहने वाले आनंद कुमार का भी कुछ ऐसा ही मानना है। उनका कहना है दोपहर 2:00 बजे तक सब्जी, फल और दूध की दुकानें खोली जाएंगी। ऐसे में कामकाज करने वाला व्यक्ति अपनी नौकरी छोड़कर फल और सब्जी खरीदता घूमेगा। कैसे काम चलेगा। दूसरी ओर शराब की दुकान देर रात तक खुलेगी तो अपराध ही बढ़ेगा।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.