ग्रेटर नोएडा: वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर को लूटने वाले 12वीं के छात्र निकले, 10वीं में 98% अंकों के साथ पास हुए

ग्रेटर नोएडा: वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर को लूटने वाले 12वीं के छात्र निकले, 10वीं में 98% अंकों के साथ पास हुए

ग्रेटर नोएडा: वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर को लूटने वाले 12वीं के छात्र निकले, 10वीं में 98% अंकों के साथ पास हुए

Tricity Today | गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने इन तीनों छात्रों को वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर को लूटने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

ग्रेटर नोएडा: वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर को लूटने वाले 12वीं के छात्र निकले, 10वीं में 98% अंकों के साथ पास हुए

ग्रेटर नोएडा के धनोरी वेटलैंड में वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर के साथ लूटपाट करने वाले 12वीं के छात्र निकले हैं। पुलिस ने तीनों युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। दो दिन पहले ग्रेटर नोएडा पुलिस ने युवकों की पहचान करने के लिए सीसीटीवी कैमरे की एक फुटेज जारी की थी। जिसके आधार पर इन छात्रों की पहचान हो गई। बड़ी बात यह है कि अभी तीनों कॉमर्स के स्टूडेंट हैं और 10वीं में 98% अंकों के साथ पास हुए थे। सूचना के आधार पर रविवार को पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार किया है। लुटेरे बने छात्रों के कब्जे से 5 लाख रुपये कीमत का कैमरा, लेंस, लूट में प्रयुक्त बाइक और तमंचा बरामद हुआ है।

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार तीनों युवकों को न्यायालय में हाजिर किया गया। अदालत ने तीनों को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया है। पुलिस पुलिस ने इन लुटेरों का सुराग देने वाले को ₹25000 का इनाम देने की भी घोषणा की थी।

ग्रेटर नोएडा के एडिशनल डीसीपी विशाल पांडे ने बताया कि दनकौर के एसएचओ अनिल पांडे, एसएसआई अभिलाष त्यागी सहित 14 पुलिसकर्मियों की टीम ने वेटलैंड में लूटपाट करने वाले लुटेरे दीपक निवासी छासियावाड़ा (सिकंदराबाद), प्रमोद उर्फ हैप्पी एसडीएम कॉलोनी सिकंदराबाद, दीपेंद्र उर्फ दीपांशु निवासी गांव मुरादाबाद थाना सिकंदराबाद (बुलंदशहर) को गिरफ्तार किया है। 

गिरफ्तार लुटेरों के कब्जे से लूटा गया महंगा मोबाइल और लेंस बरामद कर लिया गया है। घटना में प्रयुक्त अपाचे बाइक और तमंचा भी बरामद किया गया है। पुलिस के अनुसार 22 अगस्त को गिरफ्तार लुटेरों ने दिल्ली निवासी नरेंद्र कोहली और उनके साथी श्याम बागरा से धनोरी वेटलैंड की फोटोग्राफी करते समय तमंचे की बट से हमला करके महंगा मोबाइल, कैमरा और लेंस छीन लिया था। लूटपाट के बाद लुटेरे बाइक पर सवार होकर फरार हो गए थे। इनके खिलाफ दनकौर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। 

3 जिलों में 30 टीम कर रही थी लुटेरों की तलाश, 36 गांवों में दबिश दी
 
वेटलैंड के लुटेरों की तलाश में गौतमबुद्ध नगर, बुलंदशहर और अलीगढ़ जिलों की 30 टीम पिछले एक सप्ताह से तलाश में लगी थीं। 36 गांवों में दबिश दी गई थी। तीनों जनपदों की हाल में बिक्री हुई 400 नए मॉडल की अपाचे बाइक की भी शिनाख्त कराई गई।

बाइक की पहचान बदलवाकर लुटेरा घर पहुंचा तो पुलिस मिली 

सिकंदराबाद के निवासी लुटेरे को जब दनकौर पुलिस गिरफ्तार करने उसके घर पहुंची तो बाइक सवार लुटेरा दीपक शहर में बाइक की पहचान बदलवाकर घर लौटा था। तभी पुलिस को देखकर हड़बड़ा गया। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। इसके बाद तो उसने पूरा सच पुलिस के सामने बयां कर दिया।

पत्रकारों के सामने फूट-फूट कर रोए तीनों लुटेरे

लूट की इस घटना को अंजाम देने वाले लुटेरे पेशेवर नहीं हैं। लूट की उनकी यह पहली घटना हैं। उनको अंदेशा नहीं था कि फोटोग्राफर की कार में कैमरा लगा है। उन्होंने यह भी नहीं सोचा था कि पकड़े जाएंगे। पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए तीनों फूट-फूट कर रोने लगे और हाथ जोड़कर अपने को बचाने की गुहार करने लगे

सूचना देने वाले को 25 हजार के इनाम की घोषणा से राह हुई आसान

दनकौर पुलिस जब इस मामले में 5 दिन तक कोई सुराग नहीं लगा पाई तो पुलिस ने लुटेरों के फोटो सोशल मीडिया और समाचार पत्रों में प्रकाशित करवाए। सूचना देने वाले को 25 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की। इसके बाद पुलिस को इनपुट मिलने लगा। सैकड़ों कॉल पुलिस को लुटेरों के संबंध में जानकारी देने के लिए मिली हैं। इसी कड़ी में ही आगे चलने पर ही पुलिस को सफलता मिली।

फोटो खींचने के लिए महंगे कैमरे के शौक ने बना दिया लुटेरा 

तीनों बाइक सवार लुटेरे अच्छे खासे घरों से हैं। तीनों ही पढ़ने में होशियार हैं। पारिवारिक पृष्ठभूमि भी काफी अच्छी है। लेकिन महंगी बाइक की सवारी करना और फोटो खींचने के लिए महंगा कैमरा रखने के लालच ने ही इन छात्रों को लुटेरे बना दिया। तीनों छात्रों की यह पहली लूट है। इसी में धर दबोचे गए।

लूट के बाद परिजनों से छुपाए रखा मामला

तीनों छात्रों ने अपने परिजनों से लूट की इस घटना को छुपाए रखा। तीनों ने बाइक की डिग्गी में ही तमंचा छुपाकर घर में बाइक खड़ी कर दी थी। पहचान छिपाने के बाइक के हेड लाइट की नंबर प्लेट पर जातिसूचक शब्द जाट को भी हटा दिया था। तीनों सामान्य दिनचर्या में ही घरों में रह रहे थे। तीनों के परिजनों को लूट का भरोसा नहीं था, लेकिन जब पुलिस ने परिजनों से बात की तो सब अचंभे में पड़ गए। हकीकत जानने के बाद घर लौट गए। वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर नरेंद्र कोहली और श्याम बागरा ने दनकौर कोतवाली में पहुंचकर लुटेरों की शिनाख्त की। पीड़ितों ने अपना कैमरा और लेंस पहचाना और बेधड़क लुटेरों शिनाख्त की।

फ़ेसबुक से पुलिस पहुंची, 10वीं में 98% अंकों के साथ पास हुआ था

बाइक सवार लुटेरे दीपक ने फेसबुक पर अपनी बाइक के साथ फोटो अपलोड कर रखा था। इसके बारे में सूचना देने वालों ने पुलिस को जानकारी दी। इसके बाद पुलिस लुटेरे के घर तक पहुंच गई और बाइक तमंचा बरामद कर हिरासत में लेने के बाद अन्य दो को भी धर दबोचा। इनमें से एक पुलिस में भर्ती होना चाहता था। उसने स्पोर्ट्स में दर्जनभर मेडल जीत रखे हैं। हाई स्कूल तक वह मेधावी छात्र रहा था। उसने हाईस्कूल की परीक्षा में 98% अंक हासिल किए थे। उसके चाचा दिल्ली और बाबा भी दिल्ली पुलिस में इंस्पेक्टर रहे हैं।

दोस्त से दावत लेने आए थे बन गए लुटेरे 

बाइक सवार तीनों युवक अपने धनोरी गांव स्थित एक दोस्त से बर्थडे पार्टी लेने आए थे। बातों बातों में दोस्त से फोटोग्राफी करने के लिए बड़े कैमरे की बात कही। दोस्त ने वेटलैंड आने वाले वाइल्डलाइफ फोटोग्राफरों पर महंगे कैमरे होने की जानकारी दी और लूट करने को उकसाया। तीनों इंटरमीडिएट के छात्र हैं और कॉमर्स विषय की पढ़ाई कर रहे हैं। इनका धनोरी निवासी दोस्त भी इन्हीं के साथ पढ़ता था। इसी ने लूट के लिए उकसाया। उसे भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 

मामले का खुलासा और गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने 50 हजार का इनाम देने की घोषणा की है। दनकौर कोतवाल अनिल पांडे एसएसआई अभिलाष त्यागी सहित 14 उपनिरीक्षक और पुलिसकर्मियों की टीम को पुलिस कमिश्नरेट द्वारा इनाम देने की घोषणा की गई है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.