पुलिस कमिश्नर, जेवर विधायक और सीईओ ने किया यमुना सिटी का दौरा, सुरक्षा इंतजाम पुख्ता होंगे, 6 थाने बनेंगे

पुलिस कमिश्नर, जेवर विधायक और सीईओ ने किया यमुना सिटी का दौरा, सुरक्षा इंतजाम पुख्ता होंगे, 6 थाने बनेंगे

Tricity Today | पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह, जेवर विधायक धीरेंद्र सिंह और सीईओ डॉ. अरुण वीर सिंह ने किया यमुना सिटी का दौरा

सोमवार की सुबह गौतमबुद्ध नगर के पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार सिंह, जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह और यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ. अरुण वीर सिंह ने यमुना प्राधिकरण क्षेत्र का व्यापक रूप से दौरा किया है। यमुना सिटी में उद्योग लगाने और लोगों को बसने के लिए बेहतर माहौल देने के लिए यमुना प्राधिकरण ने पहल शुरू कर दी है। लोगों की सुरक्षा के लिए यहां पर छह नये थाने बनाए जाएंगे। सोमवार को नये थानों की जगह तीनों लोगों ने मौके पर जाकर देखी है। अफसरों ने इन स्थानों को थाना बनने के लिए उपयुक्त माना है। इनका प्रस्ताव पहले ही शासन को भेजा जा चुका है। उम्मीद है कि अगले एक महीने में इन थानों पर मुहर लग जाएगी।

यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में जेवर एयरपोर्ट पर मुहर लगने के बाद यहां पर गतिविधियां तेजी के साथ बढ़ी हैं। आवासीय सेक्टर-18 और 20 में करीब 14 हजार आवंटियों को कब्जा देने के लिए पत्र जारी कर दिया गया है। इन सेक्टरों में करीब 5 हजार रजिस्ट्री हो चुकी हैं। इसके अलावा हजारों औद्योगिक भूखंडों का आवंटन हो चुका है। अब यहां पर लोगों को अपने मकान बनाने हैं। साथ ही उद्यमी अपनी इकाई लगाएंगे। इन सबको बेहतर और सुरक्षित माहौल देने के लिए यमुना प्राधिकरण ने पहल शुरू कर दी है। 

यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ.अरुणवीर सिंह ने कहा, "यहां आकर लोग बसें, उससे पहले यहां पुलिस थाने बना दिए जाएंगे। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह और विधायक धीरेन्द्र सिंह के साथ आज हम लोगों ने उन स्थानों का दौरा किया, जहां पर थाने बनाए जाने हैं। मौके पर सेक्टरों के नक्शे मंगा लिए गए थे। पुलिस कमिश्नर ने इन स्थानों को थानों के लिए बेहतर माना है। पुलिस कमिश्नर की ओर से थानों का प्रस्ताव पहले ही भेजा जा चुका है। उम्मीद है अगले एक महीने में इस प्रस्ताव पर मुहर लग जाएगी।"

जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए बनेगा एक अलग थाना

यमुना प्राधिकरण ने अपने आवासीय और औद्योगिक सेक्टरों में थाने प्रस्तावित किए हैं। सेक्टर-18, सेक्टर-20, सेक्टर-22 डी, सेक्टर-25ए और सेक्टर-29 में थाने प्रस्तावित किए गए हैं। इसके अलावा दयानतपुर गांव में भी एक थाना बनाया जाएगा। सेक्टर-25ए में 7 प्रतिशत आबादी के भूखंड लगाए गए हैं। यहां पर 9 गांवों के आबादी के भूखंड आवंटित किए गए हैं। इसलिए यहां पर थाना जरूरी है। वीवो मोबाइल कंपनी और सुपरटेक हाउसिंग सोसायटी के बीच 120 मीटर रोड पर सेक्टर-22 डी का थाना बनेगा। सेक्टर-18 और 20 आवासीय सेक्टर हैं। यहां पर भी थाना बनेगा। सेक्टर-29 औद्योगिक सेक्टर है। यहां भी थाना प्रस्तावित है। दयानतपुर में भी थाना बनेगा। ये थाना एयरपोर्ट को कवर कर लेगा।

पांच-पांच हजार वर्ग मीटर में खाने बनाए जाएंगे, सारी सुविधाएं होंगी

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ.अरुणवीर सिंह ने बताया कि एक थाने के लिए 5 हजार वर्ग मीटर जमीन दी जाएगी। यह जमीन निशुल्क होगी। सीईओ ने बताया कि थाना बनने के बाद लोगों को पूरी सुरक्षा मिलेगी। लोग यहां पर बसने लगेंगे। साथ ही उद्यमी भी सुरक्षित माहौल में अपने इकाई स्थापति कर सकेंगे। प्राधिकरण इसके लिए निशुल्क जमीन देगा। इन थानों में तलाक होने वाले पुलिसकर्मियों के लिए आवासीय सुविधाएं भी यही विकसित की जाएंगी। थानों के पास ही फायर स्टेशन बनाने की योजना पर भी काम किया जा रहा है। मतलब, सुरक्षा इंतजामों से जुड़ी सारी जरूरतें थाना परिसर में ही पूरी हो जाएंगी।

सबसे पहले एक प्लाटून पीएसी होगी तैनात

जेवर एयरपोर्ट का निर्माण शुरू होने से पहले इस इलाके में एक प्लाटून पीएसी तैनात की जाएगी। यह काम सबसे पहले किया जाएगा इस पर पुलिस कमिश्नर और प्राधिकरण सीईओ के बीच सहमति बन गई है। ताकि निर्माण कार्य में किसी तरह की दिक्कत ना हो। यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ.अरुणवीर सिंह ने बताया कि इसके लिए शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार सिंह ने भी सहमति दे दी है। उनकी ओर से भी यह प्रस्ताव गृह विभाग को भेज दिया गया है। उम्मीद है कि जल्दी ही प्रस्ताव पर शासन की मंजूरी मिल जाएगी।

विकास योजनाओं के आड़े माफिया और गैंगस्टर नहीं आने दिए जाएंगे: कमिश्नर

गौतमबुद्ध के पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार सिंह ने कहा, "जेवर एयरपोर्ट एक ग्लोबल प्रोजेक्ट है। उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार की भी यह महत्वकांक्षी परियोजना है। जेवर एयरपोर्ट और इसके आसपास बड़े पैमाने पर औद्योगिक विकास से जुड़ी गतिविधियां संचालित होने वाली हैं। अब तक गौतमबुद्ध नगर में गैंगस्टर और माफिया निर्माण गतिविधियों से लेकर तमाम दूसरी औद्योगिक गतिविधियों में दखलअंदाजी करते आए हैं। इनके नेक्स्ट को तोड़ दिया गया है। जेवर एयरपोर्ट के इलाके में किसी भी माफिया और गैंगस्टर को दखलअंदाजी करने नहीं दी जाएगी। अगर ऐसा कोई भी अवांछित तत्व सक्रिय पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होगी।" पुलिस कमिश्नर ने आगे कहा, "जल्दी ही जेवर एयरपोर्ट के इलाके में कुछ पुलिस चौकियां, थाने और पीएसी की तैनाती कर दी जाएगी। यहां आने वाले उद्यमियों और निवासियों को पूरी सुरक्षा मिलेगी।"

सरकार का मूल मंत्र है, अपराध का सफाया और अधिकतम औद्योगिक निवेश: धीरेन्द्र सिंह

पूरे इलाके का पुलिस कमिश्नर और यमुना प्राधिकरण के सीईओ के साथ दौरा करने के बाद जेवर से भारतीय जनता पार्टी के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने कहा, "उत्तर प्रदेश सरकार का मूल मंत्र अपराध का सफाया और अधिकतम औद्योगिक निवेश है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ साफ कहते हैं कि अपराध खत्म होगा तो निवेशक आएगा। निवेशक के आने से उद्योग धंधे बढ़ेंगे। औद्योगिक गतिविधियां बढ़ने से युवाओं को रोजगार मिलेगा। उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। जिससे विकास होगा। सुख और शांति आएगी। लिहाजा, जेवर के इलाके में किसी भी कीमत पर अपराध और अपराधियों को नहीं पनपने दिया जाएगा।" धीरेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार सिंह ने पूरी तरह आश्वस्त किया है कि इलाके में उद्यमी और निवेशक निसंकोच अपना काम करें। किसी भी तरह की आपराधिक और अवांछित गतिविधियों से निपटने के लिए पुलिस चौबीसों घंटे तैयार है।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.