नोएडा में कमिश्नरी सिस्टम लागू होने के बाद अपराधियों से पुलिस का खौफ खत्म हो गया: कांग्रेस

Updated Feb 14, 2020 14:31:43 IST | Tricity Today Reporter

नोएडा में खराब कानून व्यवस्था बताते हुए कांग्रेस ने शुक्रवार को पुलिस उपायुक्त कार्यालय पर धरना दिया। कांग्रेस नेताओं ने कहा, नोएडा सहित पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। नोएडा में जब से कमिशनरी बनी है तब से पुलिस का अपराधियों पर से खोफ़ खत्म सा हो गया है। जिसका जीता जागता उदाहरण गुरुवार को सेक्टर-12 में पुलिस चौकी से मात्र 200 मीटर की दूरी पर दिनदहाड़े ज्वेलर को गोली मारकर दुकान लूट ली...

Photo Credit:  Tricity Today

नोएडा में खराब कानून व्यवस्था बताते हुए कांग्रेस ने शुक्रवार को पुलिस उपायुक्त कार्यालय पर धरना दिया। कांग्रेस नेताओं ने कहा, नोएडा सहित पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। नोएडा में जब से कमिशनरी बनी है तब से पुलिस का अपराधियों पर से खोफ़ खत्म सा हो गया है। जिसका जीता जागता उदाहरण गुरुवार को सेक्टर-12 में पुलिस चौकी से मात्र 200 मीटर की दूरी पर दिनदहाड़े ज्वेलर को गोली मारकर दुकान लूट ली गई।

गुरुवार की घटना को लेकर महानगर कांग्रेस कमेटी का एक प्रतिनिधिमंडल महानगर अध्यक्ष शाहबुद्दीन के नेतृत्व में डीसीपी ऑफिस पहुंचा। डीसीपी को एक ज्ञापन सौंपकर अपराधियों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की गई है। शाहबुद्दीन ने कहा, इस प्रकार से घटना घट जाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। सारे व्यापारियों और निवासियों में भय व्याप्त है। नोएडा कांग्रेस कमेटी दोषियों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग करती है। बाकी सेक्टरों में भी व्यपारियो और नागरिकों की सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस गश्त बढ़ाने की मांग करती है। 

उन्होंने कहा कि तीन-चार दिन में अपराधियों की गिरफ्तारी और इस घटना का खुलासा नहीं होता है, कानून व्यवस्था नहीं सुधरती है तो कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को सड़क पर उतरने को बाध्य होना पड़ेगा। ज्ञापन देने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ता सेक्टर-6 में किसानों के साथ धरने पर पहुंचे। वहां बैठकर कांग्रेस की ओर से समर्थन दिया।

प्रतिनिधि मंडल में शामिल पदाधिकारियों में अध्यक्ष शाहबुद्दीन, पूर्व अध्यक्ष मुकेश यादव, जिला युवक कांग्रेस के अध्यक्ष पुरुषोत्तम नागर, राजेंद्र अवाना, फिरे सिंह नागर, ललित अवाना, सत्येंद्र शर्मा, लियाकत चौधरी, यतेंद्र शर्मा, ऋषि गौतम, सविंदर यादव, विक्रम  सेठी, मधुराज, डॉ. सीमा,  मोहम्मद गुड्डू, रिजवान चौधरी, अली मोहम्मद, समीर, अंजार, आशुतोष पडरु, परवेज, सुमित जाटव, अशफाक बाबू सहित कई अन्य कार्यकर्ता शामिल हुए।