BIG BREAKING: सपा प्रमुख अखिलेश यादव अरेस्ट, लखनऊ के बीचोंबीच धरने पर बैठे

BIG BREAKING: सपा प्रमुख अखिलेश यादव अरेस्ट, लखनऊ के बीचोंबीच धरने पर बैठे

Social Media | सपा प्रमुख अखिलेश यादव अरेस्ट, लखनऊ के बीचोंबीच धरने पर बैठे

लखनऊ से बड़ी खबर सामने आ रही है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अखिलेश यादव किसानों के समर्थन में आज सुबह साइकिल यात्रा करने कन्नौज जाना चाहते थे। सुबह पुलिस ने उन्हें घर में बंद कर दिया। समाजवादी पार्टी के मुख्यालय को भी सील कर दिया गया था। इसके बाद हजारों सपा कार्यकर्ताओं के साथ अखिलेश यादव घर से बाहर निकले। बैरिकेडिंग तोड़कर धरने पर बैठ गए। अखिलेश यादव लखनऊ के बीचो-बीच धरने पर बैठे हुए हैं। अब जानकारी मिल रही है कि लखनऊ पुलिस ने पूर्व मुख्यमंत्री को अरेस्ट कर लिया है। इस दौरान समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच तीखी झड़प हुई है।

आपको बता दें कि कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कृषकों के समर्थन में समाजवादी पार्टी आज पूरे उत्तर प्रदेश में 'किसान यात्रा' का आयोजन कर रही है। यात्रा में शामिल होने के लिए पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के निकलने से ठीक पहले पुलिस ने सोमवार की सुबह पार्टी दफ्तर के आसपास का इलाका अवरोधक लगाकर सील कर दिया। इससे नाराज पार्टी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच तीखी झड़प हुई। पुलिस ने कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। 

गौतमपल्ली थानाध्यक्ष चंद्रशेखर सिंह ने बताया कि सपा मुखिया अखिलेश यादव का आज कन्नौज जाने का कार्यक्रम था, लेकिन वहां के जिलाधिकारी ने उनके कार्यक्रम को अनुमति नहीं दी है। लिहाजा सपा दफ्तर को जाने वाले विक्रमादित्य मार्ग के हिस्से को सील करने की कार्रवाई की गई है। पुलिस की इस कार्रवाई से नाराज पार्टी के विधान परिषद सदस्य राजपाल कश्यप समेत बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता और पार्टी की अधिवक्ता इकाई के सदस्य मौके पर पहुंचे। उनकी पुलिस से तीखी झड़प तथा धक्का—मुक्की हुई। पुलिस ने कई नेताओं और कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी ले लिया।
  
सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने पुलिस-प्रशासन की इस कार्रवाई को अलोकतांत्रिक करार देते हुए कहा है कि सरकार अखिलेश के किसान यात्रा में शामिल होने मात्र से भयभीत हो गई है। उन्होंने कहा, ''शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना हर किसी का लोकतांत्रिक अधिकार है और सरकार इसका हनन करने पर तुली हुई है। चौधरी ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार सपा की किसान यात्रा के कार्यक्रम से इतनी डरी हुई है कि वह हर जिले में पार्टी कार्यकर्ताओं को रोक रही है।

इस सवाल पर कि क्या अखिलेश पाबंदियों के बावजूद कन्नौज जाने की कोशिश करेंगे, चौधरी ने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया। हालांकि, पार्टी के सूत्रों ने दावा किया कि अखिलेश कन्नौज जाने की कोशिश करेंगे। इस बीच सपा की ओर से ट्वीट किया गया, "भाजपा सरकार में किसानों से अन्याय एवं किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ सपा की किसान यात्रा से डरी सत्ता इसे रोकने के लिए समाजवादियों का दमन कर रही है।" ट्वीट में कहा गया, "गैरकानूनी तरीके से पुलिस पार्टी कार्यकर्ताओं को थाने में बुलाकर और घरों पर जाकर रोक रही है। यह घोर निंदनीय है। किसान और नौजवान इस दंभी सत्ता को जवाब देंगे।

गौरतलब है कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में और किसानों से जुड़ी अन्य समस्याओं को लेकर सपा सोमवार से पूरे प्रदेश में किसान यात्राएं शुरू कर रही है। इसके तहत अखिलेश को कन्नौज में आयोजित यात्रा में शिरकत करनी है। उनका ठठिया मंडी से तिर्वा के किसान बाजार तक 13 किलोमीटर की यात्रा का कार्यक्रम है। अब जानकारी मिली है कि पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अखिलेश यादव किसानों को समर्थन देने के लिए यात्रा करने कन्नौज जाना चाहते थे।

उन्हें पुलिस ने धारा-144 लगे होने, कार्यक्रम को कन्नौज के डीएम से अनुमति नहीं मिलने और कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे के बारे बताया। इस पर अखिलेश यादव पुलिस बेरिकेडिंग को लाँघ गए। भारी फ़ोर्स के कारण वह और आगे नहीं बढ़ पाए। जिसके बाद थोड़ी दूरी पर ही धरना देकर बैठ गए हैं। उनके साथ हजारों की संख्या में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता हैं। बताया जा रहा है कि अखिलेश यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.