BREAKING : आज गाजियाबाद सबसे प्रदूषित और नोएडा दूसरे नम्बर पर, देखिए देशभर के शहरों का हाल

BREAKING : आज गाजियाबाद सबसे प्रदूषित और नोएडा दूसरे नम्बर पर, देखिए देशभर के शहरों का हाल

Google Image | Air Pollution in Ghaziabad

तमाम पाबंदियों के बावजूद दिवाली पर लोगों ने जमकर पटाखे जलाए। जिसका परिणाम सामने है। पूरे दिल्ली एनसीआर में रविवार की सुबह से सांस लेना मुश्किल है। रविवार को पूरे दिन सूरज के दर्शन नहीं हुए हैं। पूरे आसमान में धुएं की मोटी परत छाई हुई है। सांस लेने में लोगों को तकलीफ हो रही है। पहले से सांस के मरीजों के लिए यह स्थिति घातक है। रविवार को दिल्ली-एनसीआर में गाजियाबाद सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर रहा है। नोएडा दूसरे स्थान पर है। दोनों शहरों की हवा बेहद खतरनाक बनी हुई है। हालात लगभग आपातकाल की ओर बढ़ रहे हैं।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने रविवार की शाम 4:00 बजे पिछले 24 घंटों के दौरान औसत प्रदूषण स्तर पर एक रिपोर्ट जारी की है। जिसमें देशभर के 122 शहरों में वायु प्रदूषण के स्तर को शामिल किया गया है। अगर दिल्ली एनसीआर की बात करें तो गाजियाबाद सबसे ज्यादा प्रदूषित रहा है। गाजियाबाद का वायु गुणवत्ता सूचकांक 456 रिपोर्ट किया गया है। यह खतरनाक श्रेणी में है। एनसीआर में दूसरे स्थान नोएडा शहर का है। नोएडा का वायु गुणवत्ता सूचकांक 425 दर्ज किया गया है। ग्रेटर नोएडा का वायु गुणवत्ता सूचकांक 394 रहा है। गुरुग्राम में 358 फरीदाबाद में 378, बागपत में 447, सोनीपत में 372 और बल्लभगढ़ में 330 रिपोर्ट किया गया है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और मौसम विभाग के विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले एक सप्ताह से दिल्ली एनसीआर में पहले ही प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा था। अब शनिवार को दिवाली की रात भारी मात्रा में पटाखे जलाए गए हैं। जिसकी वजह से प्रदूषण का स्तर और ज्यादा बढ़ गया है। अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले साल के मुकाबले दिवाली के बाद वाली सुबह वायु प्रदूषण ज्यादा रहा है। जहां दिल्ली में शनिवार की शाम चार बजे एक्यूआई 414 दर्ज किया गया था, वहीं, रात दस बजे तक यह 454 पर पहुंच गया और रविवार सुबह नौ बजे एक्यूआई का स्तर 465 दर्ज किया गया है।

दूसरी ओर दिल्ली के पड़ोसी शहरों में भी एक्यूआई गंभीर श्रेणी में दर्ज किया गया है। फरीदाबाद में रविवार की सुबह एक्यूआई का स्तर 438, गाजियाबाद में 483, ग्रेटर नोएडा में 439, गुड़गांव में 424 और नोएडा में 466 दर्ज किया गया है। पिछले वर्ष दीपावली 27 अक्टूबर को थी और तब 24 घंटे का औसत एक्यूआई 337 था। अगले दो दिन यह 368 और 400 रहा था। मतलब साफ है कि अदालत, सरकार, पुलिस और प्रशासन की सारी कवायदें कामयाब नहीं हुई हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.