गौतमबुद्ध नगरः पुलिस की ऑनलाइन ई-चालान पोर्टल सेवा बंद हुई, डीसीपी ने बताई ये वजह

पुलिस की ऑनलाइन ई-चालान पोर्टल सेवा बंद हुई, डीसीपी ने बताई ये वजह

Google Image | ट्रैफिक पुलिस की ऑनलाइन ई-चालान पोर्टल सेवा बंद हुई

  • अक्तूबर, 2019 में यह सुविधा शुरू हुई थी
  • 23 सितंबर, 2020 को इस पोर्टल की सेवाएं बंद हो गई
  • इस सहूलियत के बंद होने से अब घर बैठे गलत चालान की शिकायत नहीं हो सकेगी
  • लॉकडाउन के बावजूद पिछले वर्ष 5.52 लाख से ज्यादा चालान काटे गए
  • 3.62 करोड़ रुपये से ज्यादा का जुर्माना वसूला गया
Noida News: गौतमबुद्ध नगर में आम लोगों की सहूलियत के लिए ई-चालान कंप्लेंट मैनेजमेंट सिस्टम (E-Challa Complaint Management System - ECMS) की शुरुआत की गई थी। ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) ने इसके जरिए एक साल में साढ़े तीन करोड़ रुपये से ज्यादा का जुर्माना वसूला था। लेकिन करोड़ों रुपये वसूलने वाली पुलिस इस ऑनलाइन सुविधा (Online Portal) को जारी रखने में आने वाला मामूली खर्च वहन नहीं कर सकी। इस सहूलियत के बंद होने से अब घर बैठे गलत चालान की शिकायत नहीं हो सकेगी। न ही शिकायत के 72 घंटे के अंदर निस्तारण हो सकेगा। 

2019 में शुरू हुई थी सर्विस
बताते चलें नोएडा ट्रैफिक पुलिस के पोर्टल trafficpolicenoida.in पर घर बैठे गलत चालान की शिकायत की जाती थी। शिकायत के 72 घंटे के अंदर यातायात पुलिस इसका निस्तारण कर देती थी। कमिश्नरेट सिस्टम लागू होने से कुछ वक्त पहले अक्तूबर, 2019 में यह सुविधा शुरू हुई थी। बीते 23 सितंबर, 2020 को इस पोर्टल की सेवाएं बंद हो गई। इससे आम लोगों के साथ-साथ ई-चालान प्रबंधन में ट्रैफिक पुलिस को भी काफी राहत थी। 

नहीं हुआ रिन्यू
इस पोर्टल के जरिए 5036 शिकायतों का निस्तारण किया गया था। जीवन अग्रवाल नाम के व्यक्ति की आखिरी शिकायत इस पोर्टल से निस्तारित हुई थी। अब इस पोर्टल पर बाय दिस डोमेन (Buy this Domain) लिख के आ रहा है। इस पूरे मसले पर डीसीपी ट्रैफिक ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि, 'ये ट्रैफिक पुलिस का आधिकारिक पोर्टल नहीं था। इसे 3 स्मीन्ड टेक्नोलॉजी कंपनी (3 SMIND TECHNOLOGY COMPANY) के साथ एक वर्ष के अनुबंध पर तैयार किया गया था।'

कंपनी से 1 वर्ष का करार था
नोएडा के डीसीपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद साहा ने बताया कि "यातायात पुलिस इस ऑनलाइन पोर्टल trafficpolicenoida.in को एक कंपनी 3 स्मीन्ड टेक्नोलॉजी कंपनी (3 SMIND TECHNOLOGY COMPANY) के साथ करार के तहत चला रही थी। इसके लिए एक साल का एग्रीमेंट था। अनुबंध के मुताबिक इसे 1 साल बीत चुका था। मगर कंपनी ने उसका डोमेन रिन्यू कराया। न ही इसकी जानकारी नोएडा पुलिस को दी। दरअसल पोर्टल पर बहुत कई खामियां थीं। जिसके कारण नोएडा ट्रैफिक पुलिस ने कंपनी के साथ आगे अनुबंध नही बढ़ाया।"

दूसरी कंपनियों से प्रस्ताव मिला है
डीसीपी ने आगे कहा, "हमारे पास कई और कंपनियां आयी हैं। इस तरह की ऑनलाइन पोर्टल के लिए कई कंपनियों से बातचीत चल रही है। जिस कंपनी के साथ हमारा अनुबंध था, उसका भी प्रपोजल हमें मिला है। हमने सब को पुराने पोर्टल के कमियों के बारे में बता दिया है। अगर नए पोर्टल में हमारे सुझाए सुधारों को शामिल कर लिया जाएगा, तो ट्रैफिक पुलिस फिर से इस तरह को पोर्टल चालू कर देगी। फिलहाल नोएडा ट्रैफिक पुलिस किसी भी समस्या का निस्तारण हेल्पलाइन नंबर, डीसीपी ट्रैफिक नोएडा के ईमेल, व्हाट्सएप और ट्वीटर के जरिए कर रही है।"
 
3.62 करोड़ जुर्माना वसूला था
इस ऑनलाइन पोर्टल से साल 2020 में कोरोना संक्रमण लॉकडाउन के दौरान नोएडा पुलिस को काफी मदद मिली। लॉकडाउन के बावजूद पिछले वर्ष 5.52 लाख से ज्यादा चालान काटे गए। जबकि 3.62 करोड़ रुपये से ज्यादा का जुर्माना वसूला गया। इसके बावजूद नोएडा ट्रैफिक पुलिस इस ऑनलाइन माध्यम को संचालित नहीं कर सकी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.