सुखबीर खलीफा ने एडीसीपी रणविजय समेत कई अफसरों पर लगाए ये आरोप, मानवाधिकार आयोग में दी शिकायत, पढ़िए पूरी खबर

नोएडा किसान आंदोलन : सुखबीर खलीफा ने एडीसीपी रणविजय समेत कई अफसरों पर लगाए ये आरोप, मानवाधिकार आयोग में दी शिकायत, पढ़िए पूरी खबर

सुखबीर खलीफा ने एडीसीपी रणविजय समेत कई अफसरों पर लगाए ये आरोप, मानवाधिकार आयोग में दी शिकायत, पढ़िए पूरी खबर

Tricity Today | सुखबीर खलीफा ने एडीसीपी रणविजय समेत कई अफसरों पर लगाए आरोप

सुखबीर खलीफा ने एडीसीपी रणविजय समेत कई अफसरों पर लगाए ये आरोप, मानवाधिकार आयोग में दी शिकायत, पढ़िए पूरी खबर Noida News : नोएडा प्राधिकरण (Noida Authority) किसान (Farmers) पिछले करीब डेढ़ महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं। बीते 11 अक्टूबर को प्रदर्शन कर रहे 81 गांवों के हजारों किसानों और पुलिस (Police) के बीच धक्का-मुक्की और नोकझोंक हुई थी। इस मामले में किसान नेता ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (National Human Rights Commission) गौतमबुद्ध नगर पुलिस और अफसरों के खिलाफ शिकायत दी है। 

सुखबीर खलीफा ने की कार्रवाई की मांग
किसान नेता सुखबीर खलीफा की तरफ से दी गई शिकायत में कहा, "पुलिस-प्रशासन ने अपनी शक्तियों का दुरुपयोग किया और किसानों के संवैधानिक अधिकारों का हनन किया है। पुलिस ने गैर कानूनी तरीके से किसानों पर लाठीचार्ज किया और 10 से ज्यादा किसानों को चोटें आई हैं।" इस मामले में शिकायत करते हुए सुखबीर खलीफा ने सख्त कार्रवाई की मांग की है।

1500 से ज्यादा किसानों पर मुकदमा दर्ज
इस पूरे मामले में नोएडा पुलिस एक्शन में है। शहर के सेक्टर-20 थाना क्षेत्र में प्राधिकरण के एक अफसर की तहरीर पर 36 नामित समेत 1500 से ज्यादा किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। हालांकि किसानों ने भी थाने में अपनी शिकायत दी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब किसान नेता सुखबीर खलीफा ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को पूरे मामले से अवगत कराया है। 

पुलिसकर्मियों पर शक्तियों का दुरुपयोग करने का आरोप 
सुखबीर खलीफा ने नोएडा के एडीसीपी रणविजय सिंह और अन्य पुलिसकर्मियों पर अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है। किसान नेता सुखबीर खलीफा ने बताया कि बुधवार को भी नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ किसानों की वार्ता होनी है। इस वार्ता के निष्कर्ष  के बाद ही किसान आगे की रणनीति तय करेंगे। उनका कहना है कि जब तक किसानों को न्याय नहीं मिल जाता तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

"निजी स्वार्थ सिद्ध कर रहे हैं कुछ लोग"
इस मामले में एडीसीपी रणविजय सिंह ने कहा, "कुछ किसान शांतिपूर्ण ढंग से हरौला बारात घर में अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। हमने अफसरों और किसानों के बीच कई दफे बैठक कराई। प्राधिकरण ने कई सकारात्मक फैसले लिए। किसान भी इससे संतुष्ट थे लेकिन उनकी आड़ में कुछ लोग निजी स्वार्थ सिद्ध कर रहे हैं। ऐसे लोग शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रहे किसानों को भी उग्र कर रहे हैं। बार-बार उन्हें हिंसा करने और नोएडा प्राधिकरण कार्यालय जाने के लिए उकसा रहे हैं। इसमें उनके व्यक्तिगत हित शामिल हैं। उन तत्वों के साथ एक हजार से ज्यादा लोग यहां पहुंचे थे। उन्होंने कानून तोड़ा।"

"पुलिस बलों पर हमला स्वीकार्य नहीं"
एडीसीपी ने आगे कहा, "प्रदर्शनकारियों की आड़ में आए लोगों ने प्राधिकरण के गेट को तोड़ने की कोशिश की। हमने उन्हें रोकने का प्रयास किया। इस दौरान उन्होंने पुलिस बलों पर हमला कर दिया। उनके साथ मारपीट की और उनकी वर्दी फाड़ी। इस तरह का व्यवहार पूरी तरह अस्वीकार्य है। किसी भी हाल में कानून-व्यवस्था को बिगड़ने नहीं दिया जाएगा। अगर कोई कानून को तोड़ने की कोशिश करेगा या अपने हाथ में लेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। नोएडा पुलिस उन मुख्य आरोपियों के साथ-साथ सभी 1000 से ज्यादा लोगों के खिलाफ मामला पंजीकृत करेगी और सख्त एक्शन लेगी।"

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.