कोलकाता में हुए 14 करार, मिलेगा हजारों करोड़ रुपये निवेश

UP Global Investors Summit : कोलकाता में हुए 14 करार, मिलेगा हजारों करोड़ रुपये निवेश

कोलकाता में हुए 14 करार, मिलेगा हजारों करोड़ रुपये निवेश

Tricity Today | यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट

Lucknow : यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट 2023 के लिए मुंबई, चेन्नई और दिल्ली के बाद मंगलवार को पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में आयोजित रोड शो में उद्योग जगत का साथ मिला। औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता के नेतृत्व में आयोजित रोड शो में नए भारत के ग्रोथ इंजन उत्तर प्रदेश में हजारों करोड़ के निवेश का प्रस्ताव रखते हुए 14 से अधिक औद्योगिक घरानों ने एमओयू साइन किए। जिसके जरिए उत्तर प्रदेश में हजारों करोड़ का न सिर्फ निवेश होगा बल्कि 15 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा।
 
उद्यमियों और उद्योगपतियों को दिया निमंत्रण
उत्तर प्रदेश को नए भारत का ग्रोथ इंजन बनाने और यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट-2023 में निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी के नेतृत्व में टीम योगी ने पश्चिम बंगाल के उद्यमियों और उद्योगपतियों को उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित किया। औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी के साथ श्रम और सेवायोजन मंत्री अनिल राजभर, परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह, इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विकास राज्य मंत्री अजीत सिंह पाल व अधिकारी गण रोड शो में सम्मिलित हुए।

कोलकाता के होटल द ओबराय ग्रांड
कोलकाता के होटल द ओबराय ग्रांड में सुबह से ही मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों की उद्यमियों के साथ बिजनेस टू गवर्नमेंट (बीटूजी) मीटिंग का दौर शुरू हुआ, जो देर शाम तक चलता रहा। दोपहर में रोड शो हुआ, जिसमें उद्यमियों को बताया गया कि उत्तर प्रदेश निवेश का गंतव्य और नए भारत का ग्रोथ इंजन बन चुका है।

10 लाख करोड़ के निवेश का लक्ष्य
निवेशकों को बताया गया कि नवम्बर में यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट के जरिये 10 लाख करोड़ के निवेश का लक्ष्य रखा गया  था। लेकिन 16 देशों के 21 शहरों में हुए रोड शो में 7.12 लाख करोड़ और घरेलु रोड शो मुम्बई में 5 लाख करोड़ का निवेश प्रस्ताव मिलने के बाद यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट 2023 के जरिये निवेश का लक्ष्य 10 लाख करोड़ से बढ़ा कर 17 लाख करोड़ कर दिया गया है। 

इनके साथ हुई बैठक
कोलकाता में मंगलवार को मंत्री नन्दी के नेतृत्व में पहुंची टीम के साथ टीटागढ़ वेगन्स लिमिटेड, बर्जर पेंट्स ग्रीनटेक एनवायरमेंट प्राइवेट लिमिटेड, टाटा स्टील डाउन स्ट्रीम प्रोडक्ट लिमिटेड, एलेनबेरी, अनमोल फीड्स, श्याम मैटेलिका, ईस्टर्न इक्वीपमेंट इएनटी, लक्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड, श्याम स्टील, कैप्टन स्टील, अरेवा इलेक्ट्रॉनिक्स, एसकेएम ग्रुप, मिल वैले टेक्नोलॉजी, नियोगी टेक्नोलॉजी एंड रिसर्च प्राइवेट लिमिटेड, डाइनेमिक इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड, एसए एक्सपोर्ट्स, हल्दीराम, अम्बुजा न्योटिया, लिंडे ग्रुप, टेक्नो इलेक्ट्रिक ग्रुप के साथ बीटूजी मीटिंग हुई। जिसमें उद्यमियों को उत्तर प्रदेश में निवेश की सम्भावनाओं और अवसरों के बारे में विस्तार से बताया गया। जिसके बाद उद्यमियों ने अपने निवेश प्रस्ताव रखते हुए एमओयू साइन किए।

200 उद्यमी और निवेशक सम्मिलित
रोड शो में इस्पात, रबर, हेल्थकेयर, इंजीनियरिंग वर्क, बेवरेजेज, गारमेंट, कोयला, होटल उद्योग, इलेक्ट्रानिक्स उद्योग, फर्नीचर उद्योग, चाय उद्योग, स्पोर्ट इंडस्ट्री आदि विभिन्न उद्योगों से जुड़े करीब 200 उद्यमी और निवेशक सम्मिलित हुए। जिनमें से कई उद्यमियों व निवेशकों ने उत्तर प्रदेश की बेहतर औद्योगिक नीति और कानून व्यवस्था पर भरोसा जताते हुए निवेश का वादा किया। वहीं एमओयू भी साइन किए। सभी उद्यमियों और निवेशकों को उत्तर प्रदेश में निवेश के अवसरों एवं असीम सम्भावनाओं की जानकारी देते हुए निवेश के लिए आमंत्रित किया गया। उद्यमियों को नए भारत के ग्रोथ इंजन के रूप में उभर रहे उत्तर प्रदेश की खूबियों के बारे में बताया गया।

सरकार ने बेहतर माहौल देने का किया वादा
रोड शो में श्रम एवं सेवायोजन मंत्री अनिल राजभर, परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह, इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विकास राज्य मंत्री अजीतसिंह पाल, अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह, सचिव एमएसएमई और निर्यात प्रोत्साहन प्रांजल यादव, सीईओ यूपीसीडा मयूर महेश्वरी, प्रिंसिपल सेक्रेटरी पर्यटन मुकेश मेश्राम, एमडी पिकअप एवं विशेष सचिव औद्योगिक विकास पीयूष वर्मा ने उद्यमियों और निवेशकों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में निवेश का हब बन चुके उत्तर प्रदेश की खूबियों से अवगत कराया। एक बेहतर माहौल में उद्योगों के विकास के लिए हर सम्भव मदद का वादा भी किया।

उद्यमियों ने यूपी की कानून व्यवस्था और औद्योगिक नीतियों पर जताया विश्वास
सेंचुरी प्लाईबोर्ड्स लिमिटेड के चेयरमैन सज्जन भजंका ने कहा कि वे उत्तर प्रदेश की कृषि-वानिकी श्रेष्ठता, बड़े उपभोक्ता बाजार, बेहतर बुनियादी ढांचे और बेहतर कानून व्यवस्था के कारण यूपी में प्लाईवुड और सम्बद्ध उत्पादन परियोजना में बड़े पैमाने पर निवेश करने जा रहे हैं।

बालाजी वेफर्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक श्याम विरानी ने कहा कि बालाजी वेफर्स जल्द ही उत्तर प्रदेश में एक एकीकृत खाद्य प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित करने की योजना बना रही है। क्योंकि उत्तर प्रदेश एक बड़ा बाजार है। उन्होंने उत्तर प्रदेश की औद्योगिक नीतियों के कारण व्यापार करने में हो रही आसानी और मिल रही बेहतर सुविधाओं की प्रशंसा की। अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने उद्यमियों व उद्योगपतियों को उत्तर प्रदेश के मजबूत ढांचागत विकास, कृषि उन्नति और बेहतर कानून व्यवस्था से अवगत कराया।

सरकार की नीतियों से करवाया अवगत
पर्यटन और संस्कृति विभाग के प्रमुख सचिव मुकेश मेश्राम ने कोलकाता रोड शो में उपस्थित प्रतिष्ठित उद्योगपतियों को यूपी में इको टूरिज्म और स्मारकीय पर्यटन में विभिन्न अप्रयुक्त और अनछुए अवसरों से अवगत कराया। सीईओ यूपीसीडा मयूर महेश्वरी ने कोलकाता रोड शो में उपस्थित उद्योगपतियों को उत्तर प्रदेश सरकार की नीतियों, व्यापार करने में आसानी और राज्य के निवेशक अनुकूल, सहायक ढांचे से अवगत कराया, ताकि उन्हें सूचित निवेश निर्णय लेने में मदद मिल सके। 

सीआईआई अध्यक्ष प्रशांत शर्मा ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उनके शासन में उत्तर प्रदेश के विकासोन्मुख, सहायक पारिस्थितिकी तंत्र की प्रशंसा की। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार के प्रगतिशील, जन और विकासोन्मुख नीतियों से अवगत कराया, जो उत्तर प्रदेश को व्यापार और निवेश के अनुकूल बनाता है।
पिछली सरकारों के एजेंडे में नहीं था यूपी का औद्योगिक विकास : नन्दी
रोड शो में औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने कहा कि 2017 के पहले उत्तर प्रदेश की तुलना बीमारू राज्य के रूप में होती थी। जहां उद्यमी निवेश के लिए कदम रखने से डरते थे। क्योंकि 2017 के पहले की सरकारों के एजेंडे में औद्योगिक विकास, बेहतर सड़कें, बेहतर हवाई सेवाएं आदि शामिल नहीं था। केवल एक ही एजेंडा था कि कैसे उनका वोट बैंक बढ़े और कैसे नोट बढ़े। जिसकी वजह से यूपी बीमारू राज्य के रूप में जाना और पहचाना जाता था। लेकिन 2017 के बाद जब से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की कमान संभाली है, उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश बना है और अब सर्वोत्तम प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है। उत्तर प्रदेश के कानून व्यवस्था की देश के कई राज्यों में नजीर दी जाती है।

90 शहरों के लिए उड़ान के साथ बेहतर एयर कनेक्टिविटी : नन्द गोपाल
नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने कहा कि हमारे पास 16 हजार किलोमीटर रेलवे लाइन वाला बेहतर रेल कनेक्टिविटी है, 6 एक्सप्रेसवे के साथ ही बेहतर रोड कनेक्टिविटी है, नौ एयरपोर्ट के व प्रति दिन 90 शहरों के लिए उड़ान के साथ बेहतर एयर कनेक्टिविटी है, मल्टी मॉडल टर्मिनल हब की सुविधा उपलब्ध होने जा रही है, फ्रेट कॉरिडोर की सेवा उपलब्ध है। उत्तर प्रदेश देश के सात राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड, उत्तराखंड, बिहार, दिल्ली और हरियाणा से सटा हुआ है।

Copyright © 2022 - 2023 Tricity. All Rights Reserved.