भाजपा की बड़ी किलेबंदी, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा और अमित शाह मैदान में उतरे, मिलीं यह जिम्मेदारी

UP Vidhansabha Chunav 2022 : भाजपा की बड़ी किलेबंदी, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा और अमित शाह मैदान में उतरे, मिलीं यह जिम्मेदारी

भाजपा की बड़ी किलेबंदी, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा और अमित शाह मैदान में उतरे, मिलीं यह जिम्मेदारी

Google Image | दिग्गज नेता

भाजपा की बड़ी किलेबंदी, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा और अमित शाह मैदान में उतरे, मिलीं यह जिम्मेदारी UP Assembly Election 2022 : उत्तर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ना चाहती है। अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि भारतीय जनता पार्टी ने गुरुवार को बड़ा फैसला लिया है। तीन दिग्गज नेताओं को 2-2 क्षेत्रों में तैनात कर दिया गया है। यह तीनों नेता चुनाव से जुड़ी हर गतिविधि और फैसले में दखल रखेंगे। भाजपा ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा को चुनावी कमान सौंप दी है। इनके अलावा भाजपा के प्रदेश प्रभारी और सह प्रभारी इन तीनों नेताओं का सहयोग करेंगे।

तीनों नेताओं में इस तरह 6 क्षेत्रों को बांटा गया है
उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी अपने सांगठनिक ढांचे को राज्य में 6 हिस्सों में बांटती है। इनमें काशी, अवध, पश्चिम, ब्रज गोरखपुर और कानपुर क्षेत्र शामिल हैं। अब काशी और अवध क्षेत्र का जिम्मा राजनाथ सिंह को सौंपा गया है। राजनाथ सिंह का गृह जनपद चंदौसी काशी क्षेत्र में पड़ता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी काशी क्षेत्र में वाराणसी से सांसद हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा गोरखपुर और कानपुर की कमान संभालेंगे। ब्रज और पश्चिम में गृह मंत्री अमित शाह प्रभारी बनाए गए हैं।

बंगाल का परिणाम यूपी में नहीं दोहराना चाहती भाजपा
भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को लेकर तमाम तरह की योजनाएं बना रही है। पार्टी ने सांगठनिक ढांचे को नए सिरे से मजबूत किया है। पन्ना प्रमुख और बूथ अध्यक्षों की नियुक्ति चल रही है। सदस्यता अभियान भी इसी सिलसिले में शुरू किया गया है। दरअसल, इस साल की शुरुआत में बंगाल से आए चुनावी परिणाम भाजपा को परेशान कर रहे हैं। हाल फिलहाल में चुनावी सर्वे भी भाजपा को खुश करने लायक नहीं हैं। दरअसल, सर्वे रिपोर्ट में सरकार की वापसी तो नजर आ रही है, लेकिन बहुमत बंपर नहीं है। ऐसे में चुनावी परिणाम छोटी मोटी गलतियों से बदल सकते हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.