चक्की आटा हुआ महंगा, आसमान पर पहुंचे गेहूं का दाम, जानिए वजह

Uttar Pradesh : चक्की आटा हुआ महंगा, आसमान पर पहुंचे गेहूं का दाम, जानिए वजह

चक्की आटा हुआ महंगा, आसमान पर पहुंचे गेहूं का दाम, जानिए वजह

Google Image | प्रतीकात्मक फोटो

चक्की आटा हुआ महंगा, आसमान पर पहुंचे गेहूं का दाम, जानिए वजह Uttar Pradesh|Kanpur : पिछले साल सीजन में गर्मी के वजह से गेहूं का उत्पादन काफी घटा है। इसका असर खेतों से लेकर बाजारों तक दिख रहा है। गेहूं के दाम आसमान पर पहुंच गए हैं। सोमवार को कानपुर की मंडी में गेहूं के 2700 रुपये क्विंटल तक पहुंच गए। फतेहपुर में गेहूं 2800 रुपये, उन्नाव में 2300-2450 रुपये और हरदोई की मंडी में 2550 रुपये क्विंटल तक पहुंच गए हैं। जानकारों के मुताबिक अगली फसल आने में 4-5 महीने हैं। गेहूं का स्टॉक भी कम हो रहा है। ऐसे में खुले बाजार में गेहूं के दाम 3000 रुपये क्विंटल को पार कर सकते हैं। गेहूं के दाम वढ़ने की वजह से खुले बाजार में आटा 35 से 38 रुपये प्रति किलो में बिक रहा है।

धान के भी दाम चढ़े
पहले सूखा और फिर देर तक हुई बारिश ने धान उत्पादक किसानों को राहत दी। हालांकि सूखे के चलते किसानों ने कम क्षेत्र में धान बोया था। सेंट्रल यूपी के कई जिलों में कम रकवे के वावजूद धान का उत्पादन बढ़ा है, लेकिन फसल कम होने की वजह से धान के दाम वढ़ रहे हैं।

गर्मी बनी वजह
कानपुर के गल्ला कारोवारी ज्ञानेश मिश्रा ने बताया कि तेज गर्मी से गेहूं के दाने सूखकर छोटे हो गए थे। कम उत्पादन और निर्यात का असर यह हुआ कि सर्दियां आने के पहले ही मंडियों से लेकर खुले बाजार तक दाम चढ़ रहे हैं। बढ़त का ट्रेंड पिछले एक महीने से नोट किया जा रहा है। कानपुर मंडी में सोमवार को गेहूं के दाम 2700 रुपये क्विंटल तक पहुंच गए। साफ-सफाई और रिटेलर का मुनाफा जोड़ लिया जाए तो एक किलो गेहूं 29 रुपये का मिलेगा। सरकार वफर स्टॉक जारी करे तो आम लोगों को कुछ राहत मिल सकती है। हरदोई के गल्ला कारोवारी महेश महेश्वरी के अनुसार, सोमवार को गेहूं 2,550 के स्तर पर था। पाइपलाइन में माल न होने से दाम तेजी से बढ़ रहे हैं। आशंका जताई जा रही है कि अगले एक महीने में दाम 2800-2900 रुपये तक पहुंच जाएंगे।

12 क्विंटल फसल
फतेहपुर के किसान मन्नीलाल ने बताया कि पहले जिस खेत में 7 क्विंटल धान होता था, इस बार वहां 12 क्विंटल फसल मिली है। इसकी वजह अक्टूबर में देर तक हुई बारिश है। हालांकि धान बोन के बाद बारिश और सिंचाई न होने से काफी धान सूख गया था फतेहपुर की मंडी में सोमवार को शरवती चावल 2550 रुपये क्विंटल बिका, जबकि पिछले साल इसकी कीमत 1,600 रुपये थी। तारा धान 2,150 और मोटा धान 1,400 रुपये क्विंटल चल रहा है। पिछले सीजन में मोटा धान 1,200 रुपये क्विंटल पर था।

50-60 प्रतिशत कमजोर
हरदोई के कारोवारी महेश ने बताया कि पहले सूखे फिर वेहिसाव वारिश के चलते धान का रकवा 50-60 प्रतिशत कमजोर रहा। इसकी वजह से धान के दाम चढ़ रहे हैं। महेश ने बताया कि हरदोई में हाइब्रिड चावल 1600-1725 के बीच और उन्नाव में हाइब्रिड चावल के दाम 1850- 1950 के आसपास चल रहे हैं।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.