15 दिनों में 8 बार काटा, झाड़-फूंक करने गांव में पहुंचा तांत्रिकों का जमावड़ा

जान का दुश्मन बना सांप : 15 दिनों में 8 बार काटा, झाड़-फूंक करने गांव में पहुंचा तांत्रिकों का जमावड़ा

15 दिनों में 8 बार काटा, झाड़-फूंक करने गांव में पहुंचा तांत्रिकों का जमावड़ा

Google Image | रजत के पीछे पड़ा सांप

15 दिनों में 8 बार काटा, झाड़-फूंक करने गांव में पहुंचा तांत्रिकों का जमावड़ा Agra : उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। आगरा में 20 वर्षीय युवक को एक ही सांप ने करीब 15 दिनों में 8 बार काटा है। सांप युवकों को काटने के बाद न जाने कहां गायब हो जाता है। बीती रात भी सोते समय सांप ने युवक के पैर में काट लिया। जिसके बाद परिजनों ने गांव के ही वैघ पर इलाज करा कर जान बचा ली। घटना को जानने के बाद युवक के घर लोगों की भीड़ लगी हुई है। वही तांत्रिक तंत्र-मंत्र के प्रयोग से युवक का इलाज कर रहे हैं। 

क्या है पूरा मामला 
आगरा के दक्षिण बाईपास स्थित थाना मलपुरा क्षेत्र के मनकेड़ा गांव में 20 वर्षीय रजत अपने परिवार के साथ रहता है। रजत के परिजनों ने बताया कि सोमवार रात रजत अपने कमरे में सो रहा था। तभी अचानक सांप ने उसके पैर में काट लिया। जिसके बाद रजत को करंट से लगा और वह चिल्ला कर खड़ा हो गया। आवाज सुनकर परिजनों की आंखें खुल गई। जब रजत के पैर में देखा गया तो सांप के काटने से खून निकल रहे थे। परिजनों ने गांव के ही रहने वाले वैघ से इलाज करवाया। जिसके बाद रजत की हालत में सुधार हुआ। 

काटने के बाद गायब हो जाता है सांप 
उन्होंने बताया कि पिछले 15 दिनों में रजत को करीब 8 बार सांप ने काट लिया है। बार-बार सांप के काटने से रजत काफी डरा हुआ है। उन्होंने बताया कि सांप रजत को काटने के बाद अचानक से गायब हो जाता है। सांप के काटने पर परिवार के लोग गांव में ही रहने वाले वैघ के पास ले जाकर देसी दवाइयों का घोल पिलाते हैं, जिससे उसकी हालत में सुधार होता है। 

झाड़ फूंक द्वारा किया जा रहा है इलाज 
मलपुरा के सोनवीर सिंह चौहान ने बताया कि सांप के काटने से गांव में तांत्रिक भारी संख्या में आ रहे है। बायगीरों के द्वारा थाली बजाई जा रही है। घटना की जानकारी होते ही रजत के घर भारी संख्या में लोग हालचाल पूछने आ रहे हैं। अभी फिलहाल रजत का इलाज झाड़-फूंक द्वारा किया जा रहा है। गांव के साथ-साथ क्षेत्र में भी एक घटना चर्चा का विषय बनी हुई।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.