सीएम ने भगवान भोलेनाथ से की जनकल्याण की कामना

योगी ने किया महायोगी का रुद्राभिषेक : सीएम ने भगवान भोलेनाथ से की जनकल्याण की कामना

सीएम ने भगवान भोलेनाथ से की जनकल्याण की कामना

Tricity Today | योगी ने किया महायोगी का रुद्राभिषेक

सीएम ने भगवान भोलेनाथ से की जनकल्याण की कामना
  • -गोरखनाथ मंदिर कार्यालय के प्रथम तल पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया पूजन
  • -गौ-सेवा की और अपने स्वानों कालू और गुल्लू को दुलारा, सेवकों से मुलाकात की
  • -पुरोहित मण्डल ने विधि-विधान से करीब एक घण्टा अनुष्ठान और मंत्रोच्चार किया
Gorakhpur News : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने सोमवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर में महायोगी भगवान शिव का रुद्राभिषेक किया। उन्होंने जनकल्याण के लिए रुद्राभिषेक किया। कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आहट के बीच उन्होंने जगत के कल्याण की प्रार्थना की है। भोलेनाथ से सभी के आरोग्य और समृद्धि की कामना की है। करीब एक घण्टे तक यह अनुष्ठान चला।

करीब एक घण्टे में विधि-विधान से हुआ अनुष्ठान
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर प्रवास पर हैं। सोमवार की सुबह उन्होंने गोरखनाथ मंदिर के प्रथम तल पर स्थित शक्तिमंदिर में एक घंटे का विशेष अनुष्ठान किया है। इस दौरान उन्होंने गन्ने के रस, दूध, जल, दही, घी, शक्कर, शहद और गंगा जल से देवादिदेव महादेव भगवान शिव का अभिषेक किया है। बेलपत्र, सफेद कमल, लाल कमल, कनेर, शमी पत्र, दूब, कुशा, राई, गुड़हल, धतूरा, भांग और श्रीफल भी चढ़ाया। रुद्राभिषेक अनुष्ठान की शुरुआत भगवान गणेश की पूजा-अर्चना के साथ हुई। उसके बाद मुख्यमंत्री ने भगवान शिव और द्वादश ज्योतिर्लिंग का पूरे विधि-विधान के साथ षोडशोपचार पूजन किया।

प्रधान पुरोहित के नेतृत्व में किया रुद्राभिषेक
मिली जानकारी के मुताबिक रुद्राभिषेक मंदिर के प्रधान पुरोहित रामानुज त्रिपाठी वैदिक के नेतृत्व में संपन्न कराया गया है। उनके साथ वैदिक मंत्रोच्चार करने वालों में डॉ.अरविंद चतुर्वेदी, डॉ.रोहित मिश्र, पंडित पुरुषोत्तम चौबे, शुभम मिश्र, शशांक शास्त्री, रंगनाथ मिश्र, योगी कमलनाथ, द्वारिका तिवारी, अजय सिंह, राणा जी, विनय गौतम, अमित सिंह मोनू और दुर्गेश बजाज समेत मंदिर के पुजारी भी शामिल हुए। आरती के बाद सभी को प्रसाद भी वितरित हुआ।

गौ-सेवा की और कालू-गुल्लू को भी दुलारा
रुद्राभिषेक के पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार की सुबह पांच बजे उठे। उन्होंने गुरु गोरखनाथ का पूजन और दर्शन किया। उसके बाद अखण्ड ज्योति का दर्शन कर ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ एवं ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की समाधि पर पहुंच कर माथा टेक आशीर्वाद लिया। फिर मंदिर परिसर का भ्रमण करते हुए गोशाला में पहुंचे। यहां उन्होंने गौ-सेवा कर उन्हें गुड़ और चना खिलाया। गौ-सेवा करने वाले सेवकों को भी जरूरी दिशा निर्देश दिए। उनका हौसला बढ़ाया। उसके बाद वे भ्रमण करते हुए स्वान कालू और गुल्लू के पास पहुंचे। गुल्लू ने भी उनके साथ काफी मस्ती की।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.