जेवर एयरपोर्ट पहुंचने का एक और रास्ता खुला, इस हाईवे को बनाएगा एनएचएआई, हरियाणा और यूपी दोनों का खर्च होगा पैसा

खास खबर : जेवर एयरपोर्ट पहुंचने का एक और रास्ता खुला, इस हाईवे को बनाएगा एनएचएआई, हरियाणा और यूपी दोनों का खर्च होगा पैसा

जेवर एयरपोर्ट पहुंचने का एक और रास्ता खुला, इस हाईवे को बनाएगा एनएचएआई, हरियाणा और यूपी दोनों का खर्च होगा पैसा

Tricity Today | जेवर एयरपोर्ट पहुंचने का एक और रास्ता खुला

जेवर एयरपोर्ट पहुंचने का एक और रास्ता खुला, इस हाईवे को बनाएगा एनएचएआई, हरियाणा और यूपी दोनों का खर्च होगा पैसा Jewar Airport News : जेवर एयरपोर्ट तक पहुंचने के विकल्पों को बढ़ाने के लिए एक और कदम बढ़ गया है। दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे को एयरपोर्ट से जोड़ने, यमुना एक्सप्रेसवे पर इंटरचेंज बनाने और इंटरचेंज से टर्मिनल बिल्डिंग तक एलिवेटेड सड़क बनाने का काम एनएचआई करेगा। इस पर होने वाले खर्च को कौन-कौन वहन करेगा, इस पर जल्द फैसला हो जाएगा। इसके बनने से हरियाणा और उत्तर प्रदेश दोनों को फायदा मिलेगा।

लखनऊ की बैठक में हुआ फैसला
पिछले दिनों लखनऊ में जेवर एयरपोर्ट की तक पहुंच बढ़ाने के लिए कौन-कौन से काम होने हैं, इसको लेकर बैठक हुई। बैठक में दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे को जेवर एयरपोर्ट से जोड़ने को लेकर भी बात हुई। दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे को जेवर एयरपोर्ट से जोड़ने के साथ यमुना एक्सप्रेसवे पर इंटरचेंज और इंटरचेंज से लेकर टर्मिनल बिल्डिंग तक सड़क बनाने पर सहमति बन गई है। प्रदेश सरकार ने इसकी अनुमति दे दी है। अब इसके फंडिंग मॉडल पर जल्द फैसला हो जाएगा। बताया जाता है कि बैठक में फंडिंग को लेकर चर्चा हुई है। इस पर जल्द ही फैसला ले लिया जाएगा ताकि जल्द से जल्द से जल्द इस पर काम शुरू किया जा सके।

67 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी
दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे हरियाणा के बल्लभगढ़ से गुजर रहा है। बल्लभगढ़ से जेवर तक नई सड़क बनानी पड़ेगी। यह दूरी करीब 31 किलोमीटर है। इसमें 24 किलोमीटर हरियाणा और 7 किलोमीटर का हिस्सा उत्तर प्रदेश में आता है। यह सिक्स लेन का ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे होगा। उत्तर प्रदेश के हिस्से में आने वाली 7 किलोमीटर सड़क के लिए 67 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। इसके लिए 6 गांव की जमीन ली जानी है। जमीन अधिगम का पैसा कौन देगाऔर  सड़क निर्माण में आने वाला खर्च कौन देगा। इस पर जल्द सहमति बनने की उम्मीद है। 

19 हेक्टेयर जमीन की जरूरत 
दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे से आने वाली नई सड़क यमुना एक्सप्रेसवे के 32वें किलोमीटर पर आकर मिलेगी। यहां पर इंटरचेंज बनाया जाएगा। इस इंटरचेंज में दो उतार और दो चढ़ाव बनाए जाएंगे। इसके लिए 19 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी। इस जमीन का पैसा कौन खर्च करेगा। साथ ही इसके निर्माण में आने वाला खर्च भी कौन वहन करेगा। इस पर भी सहमति बन गई है। जल्द ही इस पर आदेश जारी होने की उम्मीद है।

एलिवेटेड रोड के जरिए पहुंचेंगे टर्मिनल बिल्डिंग
इस इंटरचेंज से जेवर एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग की दूरी करीब 800 मीटर है। यह सड़क एलिवेटेड बनाई जाएगी। इसके निर्माण और जमीन अधिग्रहण का पैसा कौन देगा। इस पर भी शासन शासन को फैसला करना है। यह आदेश भी जल्द जारी होने की उम्मीद है। इस सड़क के बन जाने से लोग एलिवेटेड रोड के जरिए टर्मिनल बिल्डिंग तक पहुंच सकेंगे। 

एनएचएआई काम करने के लिए तैयार
तीनों काम एनएचएआई से कराने पर सहमति बन गई है। एनएचआई ने भी इन कामों को करने की हामी भर ली है। अब जमीन अधिग्रहण और फंडिंग पैटर्न तय होने के बाद इस पर काम शुरू हो जाएगा। इसके बन जाने से हरियाणा और उत्तर प्रदेश दोनों को फायदा मिलेगा।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.