जेवर एयरपोर्ट शिलान्यास के दौरान ट्विटर पर चला #GoBackYogi ट्रेंड, जानिए क्या है वजह

बड़ी खबर : जेवर एयरपोर्ट शिलान्यास के दौरान ट्विटर पर चला #GoBackYogi ट्रेंड, जानिए क्या है वजह

जेवर एयरपोर्ट शिलान्यास के दौरान ट्विटर पर चला #GoBackYogi ट्रेंड, जानिए क्या है वजह

Tricity Today | Yogi Adityanath

जेवर एयरपोर्ट शिलान्यास के दौरान ट्विटर पर चला #GoBackYogi ट्रेंड, जानिए क्या है वजह Jewar Airport News : आज गुरुवार को पीएम मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ ने जेवर में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास किया है। इस दौरान ट्विटर पर #GoBackYogi का ट्रेंड चला है। दरअसल, गुर्जर समाज के लोगों में योगी आदित्यनाथ के खिलाफ कुछ महीनों से भारी रोष देखने को मिल रहा है। जिसकी वजह से गुर्जर समाज के लोगों ने #GoBackYogi ट्रेड चला है।

क्या है मामला
मुद्दा यह है कि बीते दिनों उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गौतमबुद्ध नगर के दादरी में सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण किया था। अनावरण करने से पहले मिहिर भोज के नाम के आगे से गुर्जर सब हटा दिया था। जिसके बाद गुर्जर नेताओं में भारी रोष व्याप्त हो गया। इस मामले के बाद यह विवाद काफी तेजी के साथ बढ़ता गया। गुर्जर नेताओं ने महापंचायत करना शुरू किया और इस मामले में कई लोगों पर मुकदमा भी दर्ज हुआ।

कई नेता हुए हाउस अरेस्ट
इस दौरान किसान महापंचायत में गुर्जरों ने फैसला लिया कि अगर योगी आदित्यनाथ सार्वजनिक तौर पर गुर्जर समाज से माफी नहीं मांगी तो आज के कार्यक्रम में योगी आदित्यनाथ का विरोध किया जाएगा और काले झंडे दिखाए जाएंगे। इसी कारण आज काफी गुर्जर नेताओं को पुलिस ने हाउस अरेस्ट किया। जिससे कोई भी व्यक्ति योगी आदित्यनाथ का विरोध ना कर सके।

25 हजार से ज्यादा लोगों ने किया ट्वीट
जब गुर्जर नेताओं को पुलिस ने हाउस अरेस्ट कर लिया तो गुर्जर समाज के लोगों ने ट्विटर पर #"GoBackYogi ट्रेंड चलाया, जिसमें करीब 25 हजार से ज्यादा लोगों ने ट्वीट किया है। गुर्जर समाज के नेताओं ने मांग रखी थी कि अगर योगी आदित्यनाथ ने गुर्जर समाज से माफी नहीं मांगी तो उनका इसी तरीके से विरोध किया जाएगा।

इसलिए काले कपड़े पर थी पाबंदी
आपको बता दें कि आज के कार्यक्रम में काला मास्क, काली टोपी और काले कपड़े पहनकर जाने पर पाबंदी थी। जो भी व्यक्ति काले रंग के कपड़े पहनकर कार्यक्रम में शामिल होने जा रहा था। उनको मुख्य द्वार से ही वापस भेजा जा रहा था। इसी वजह से पुलिस ने नोएडा और गाजियाबाद समेत काफी जिलों के गुर्जर नेताओं को नजरबंद किया। इस कार्यक्रम में 5 हजार से ज्यादा पुलिस कर्मी तैनात रहे। जिसमें के जिलों के आईपीएस अधिकारी भी मौजूद रहे। इस दौरान संभल, हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, गाजियाबाद और अन्य जिलों के पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.