ग्रेटर नोएडा से बड़ी खबर: यमुना अथॉरिटी ने नौवीं यूनिवर्सिटी को दी जमीन, 450 करोड़ का निवेश और 1500 लोगों को मिलेगा रोजगार

यमुना अथॉरिटी ने नौवीं यूनिवर्सिटी को दी जमीन, 450 करोड़ का निवेश और 1500 लोगों को मिलेगा रोजगार

Tricity Today | Symbolic Photo

Yamuna City News: ग्रेटर नोएडा शहर (Greater Noida) के लिए बड़ी खबर है। यमुना अथॉरिटी (Yamuna Athority) ने मुंबई की मशहूर नर्सी मोंजी यूनिवर्सिटी (Narsee Monjee University) को यमुना एक्सप्रेसवे (Yamuna Expressway) पर मंगलवार को 27.5 एकड़ जमीन का आवंटन कर दिया है। यह शहर में नौवीं यूनिवर्सिटी होगी। यह संस्थान 450 करोड़ का निवेश करेगा। इससे 1500 लोगों को रोजगार मिलेगा।

संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations) से यूनिवर्सिटी सिटी का दर्जा हासिल कर चुके नोएडा और ग्रेटर नोएडा शहर में एक और विश्वस्तरीय यूनिवर्सिटी आ गई है। मुंबई की मशहूर नर्सी मोंजी यूनिवर्सिटी (Narsee Monjee University) ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेसवे (Yamuna Expressway) के किनारे नया विश्वविद्यालय खोलेगी। इसके लिए विश्वविद्यालय प्रबंधन ने जमीन मांगी थी। मंगलवार को यमुना प्राधिकरण (Yamuna Authority) की भूमि आवंटन समिति ने यूनिवर्सिटी बनाने के लिए जमीन का आवंटन कर दिया है। मंगलवार को 27.5 एकड़ जमीन का आवंटन किया गया है। गौतमबुद्ध नगर जिले (Gautam Buddh Nagar District) में यह 9वीं यूनिवर्सिटी होगी। इससे पहले ग्रेटर नोएडा में छह और नोएडा में दो विश्वविद्यालय चल रहे हैं।

यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ.अरुणवीर सिंह ने बताया कि क्षेत्र में नर्सी मोंजी यूनिवर्सिटी के प्रवर्तक संगठन श्री विले पार्ले केलवानी मंडल ने यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे जमीन मांगी थी। यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में पहले 53 एकड़ जमीन मांगी थी। फिर संस्थान ने कम जमीन के लिए आवेदन किया। आज 27.5 एकड़  जमीन का आवंटन कर दिया गया है। यह संस्था अभी मुंबई में कई कॉलेज और डीम्ड यूनिवर्सिटी का संचालन कर रही है। मुंबई की नर्सी मोंजी डीम्ड यूनिवर्सिटी देश के शीर्ष प्रबंधन संस्थानों में शामिल है।

नर्सी मोंजी यूनिवर्सिटी मुंबई से पहली बार बाहर निकलेगी
नर्सी मोंजी स्कूल की शुरुआत 1981 में हुई थी। यह अब विश्व स्तर पर प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय के रूप में उभर रहा है। सामाजिक रूप से जागरूक श्री विले पार्ले केलवानी मंडल (SVKM) ने देश में प्रबंधन संस्थानों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए यह कॉलेज शुरू किया था। इसके कारण नरसी मोनजी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (NMIMS) का जन्म हुआ। यह संस्थान विले पार्ले में केवल 4 अध्यापकों, 3,162 किताबों और 40 छात्रों के साथ शुरू हुआ था। कभी भाईदास सभागार में अपने अस्थायी परिसर से निकलकर आज यह 5,50,000 वर्ग फुट से बड़े परिसर में है। आज यह मुंबई शहर के समृद्ध उपनगर विले पार्ले में एक मील के पत्थर के रूप में खड़ा है। 17 विशेष स्कूल, 17,000 से अधिक छात्र और लगभग 750 पूर्णकालिक संकाय सदस्य हैं। नर्सी मोंजी यूनिवर्सिटी मुंबई से पहली बार बाहर निकलेगी और दिल्ली-एनसीआर में कदम रखेगी।
     
यूनिवर्सिटी  स्थापना वर्ष
गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी 2008
गलगोटिया यूनिवर्सिटी 2011
शिव नादर यूनिवर्सिटी 2011
एमिटी यूनिवर्सिटी 2005
शारदा यूनिवर्सिटी 2009
नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी 2010
बैनेट यूनिवर्सिटी 2016
जेपी डीम्ड यूनिवर्सिटी 2001

यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में यह तीसरा विश्वविद्यालय बनेगा
अभी गौतमबुद्ध नगर जिले में 8 विश्वविद्यालय चल रहे हैं। दो यूनिवर्सिटी यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के क्षेत्र में हैं। यह गलगोटिया यूनिवर्सिटी और नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी हैं। अब नर्सी मोंजी यूनिवर्सिटी यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में खुलने वाला तीसरा विश्वविद्यालय होगा। हालांकि, इससे पहले यमुना प्राधिकरण वर्ष 2016 में पतंजलि समूह को विश्वविद्यालय की स्थापना करने के लिए जमीन दे चुका है। पतंजलि को अपना विश्वविद्यालय शुरू करने में अभी वक्त लगेगा। यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में सबसे पहले विकास कार्यों में गलगोटिया यूनिवर्सिटी और नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी शामिल हैं। इसके बाद बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट अस्तित्व में आया था। गौतमबुद्ध नगर में सबसे ज्यादा 4 विश्वविद्यालय अभी ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.