EXCLUSIVE: अब दादरी और साठा चौरासी में बहेगी विकास की गंगा

Updated Dec 29, 2019 04:41:02 IST | Tricity Today Correspondent

नोएडा और ग्रेटर नोएडा को दादरी क्षेत्र से जोड़ने के लिए करीब 40 साल पहले दादरी-सूरजपुर-छलेरा रोड का निर्माण किया गया था। अब इसे नेशनल हाईवे-91, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे और नेशनल हाईवे-24 से जोड़ने की योजना है। करीब 15 वर्षों से विवादित इस योजना पर शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया है।

EXCLUSIVE: अब दादरी और साठा चौरासी में बहेगी विकास की गंगा
Photo Credit: 

ग्रेटर नोएडा के बाद दादरी और साठा-चौरासी क्षेत्र में विकास की बारी है। इस इलाके विकास की सबसे बड़ी अड़चन खत्म हो गई है। दरअसल, शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दादरी-तिलपता-रूपवास बाईपास बनाने का आदेश सुनाया है। नोएडा और ग्रेटर नोएडा को इस इलाके से जोड़ने के लिए बन रहा यह बाईपास 20 वर्षों से अटका पड़ा था।

नोएडा और ग्रेटर नोएडा को दादरी क्षेत्र से जोड़ने के लिए करीब 40 साल पहले दादरी-सूरजपुर-छलेरा रोड का निर्माण किया गया था। अब इसे नेशनल हाईवे-91, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे और नेशनल हाईवे-24 से जोड़ने की योजना है। करीब 15 वर्षों से विवादित इस योजना पर शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया है।

क्या है इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला

ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण के अधिवक्ता रामेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि दादरी रेलवे ओवर ब्रिज और सड़क के लिए दादरी कस्बे के किसानों को जमीन देनी होगी। बदले में विकास प्राधिकरण किसानों को 64.7 फीसदी अतिरिक्त मुआवजा और 10 प्रतिशत विकसित भूमि देगा।

पांच गांवों के किसानों पर भी फैसला लागू होगा

इस प्रोजेक्ट के खिलाफ तिलपता समेत पांच गांवों के किसान भी हाईकोर्ट गए थे। हाईकोर्ट का यह फैसला इन गांवों के किसानों पर भी लागू होगा। प्रोजेक्ट की राह में सबसे बड़ा रोड़ा दादरी कस्बे की जमीन थी। कस्बे के किसान आबादी की जमीन बताकर अधिक मुआवजा मांग रहे थे। दादरी कसबा ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण का अधिसूचित इलाका नहीं है। लिहाजा, प्राधिकरण यहां भूमि का अधिग्रहण नहीं कर सकता। निर्णय तलपता, श्यौराजपुर, आमका और रूपबास गांव के किसानों के याचिकाओं पर भी लागू होगा।

दादरी विधायक की पहल पर राहत मिली थी

दिल्ली-हावड़ा रेल लाइन पर आरओबी और करीब सात किलोमीटर लंबी एप्रोच रोड 10 साल पहले ही बन चुकी थी। दादरी की जमीन नहीं मिलने के कारण यह मार्ग आगे नेशनल हाईवे-91 से नहीं जुड़ पा रहा था। स्थानीय विधायक तेजपाल नागर ने इसका तत्कालिक समाधान निकाला था। जहां यह रास्ता रुका था, वहां एनटीपीसी के थर्मल पावर प्रोजेक्ट के लिए कोयला ले जाने वाली रेलवे लाइन है। लाइन के पास रेलवे की जमीन है। इस जमीन पर अस्थाई सड़क बनावाई गई। करीब छह महीने पहले एनटीपीसी और रेलवे की इजाजत लेकर यह अस्थाई सड़क आम आदमी के लिए खोली गई थी।

अब रेलवे लाइन और एनएच के पार पहुंचेगा प्राधिकरण

ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण की सारी विकास योजनाएं रेलवे लाइन तक सिमट गई हैं। प्राधिकरण रेलवे लाइन और नेशनल हाईवे-91 पार करके दादरी और साठा चौरासी के इलाके में विकास योजनाएं शुरू करना चाहता है लेकिन कनेक्टिविटी नहीं होने के कारण कुछ नहीं हो सका। अब इस समस्या का समाधान हो गया है। दादरी-सूरजपुर-छलेरा रोड अब रेलवे लाइन पार करके नेशनल हाईवे-91, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे और आगे नेशनल हाईवे-24 तक जाएगी। उम्मीद है कि बहुत जल्दी उस इलाके में विकास प्राधिकरण कोई प्रोजेक्ट लेकर आएगा।

 

Dadri, Greater Noida, Noida, Gautam Budhh Nagar, NTPC, Satna, Road, BJP, Tejpal Nagar

Trending

नोएडा
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
उत्तर प्रदेश
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
ग्रेटर नोएडा
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
ग्रेटर नोएडा
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
यमुना सिटी
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका